दैनिक भास्कर हिंदी: नागपुर में एप बेस फीडर सर्विस से जुड़ेंगे सवारी वाहन, चलेगी दीक्षाभूमि पर्यटन स्पेशल ट्रेन

December 6th, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। इन दिनों उपराजधानी में एप बेस टैक्सियों का बोलबाला है। स्मार्टफोन पर एक उंगली से टैक्सी की जगह पता की जा सकती है। ठीक इसी तरह अब एक क्लीक पर ऑटो, रिक्शा बस या अन्य कोई भी सवारी वाहन की स्थिति पता चल सकेगी। यह सब मेट्रो के एक एप के माध्यम से हो सकेगा। हाल ही में मेट्रो भवन में हुई एक बैठक में यह निर्णय लिया गया है। हालांकी अब तक इस एप को लांच करने के लिए मेट्रो के साथ दूसरी कौनसी कंपनी आगे रहेगी यह तय नहीं हुआ है। लेकिन मेट्रो के दौड़ते ही यह एप लांच होगा।

ऐसे में मेट्रो से शहर के किसी भी कोने पर उतरनेवाला यात्री इस एप के माध्यम से गंतव्य तक पहुंचने के लिए कनेक्टीविटी ढूंढ सकेगा। यह देश की पहली एप बेस फीडर सर्विस है। वर्तमान स्थिति में ऑटो, रिक्शा, बस व एप बेस टैक्सी सवारी वाहनों का काम करती है। इसमें केवल एप बेस टैक्सी ही ऐसी है, जिसे कहीं से भी मोबाइल के माध्यम से ढूंढा जा सकता है। कुछ महीनों से यह टैक्सी सवारियों के लिए महत्वपूर्ण साधन साबित हो रही है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए अब महा मेट्रो ने सवारी वाहनों को मोबाइल से जोड़ने की योजना बनाई है। 

दीक्षाभूमि पर्यटन स्पेशल ट्रेन चलेगी

इसके अलावा आनेवाले दिनों में रेलवे स्टेशन से समानता एक्सप्रेस कनेक्ट होगी। इस स्पेशल गाड़ी को दीक्षाभूमि नाम से भी जाना जाएगा। सफर के दौरान यह विशेष पर्यटक गाड़ी डॉ. बाबासाहेब आबेडकर के जीवन से संबंधित जगह जैसे उनके जन्मस्थान महू, मुंबई, बोधगया, सारनाथ, कुशीनगर और लुंबिनी से होकर गुजरेगी। महापरिनिर्वाण दिवस के अवसर पर इसकी घोषणा हुई है। अभी गाड़ी चलने की तिथि घोषित नहीं हुई है। लेकिन पर्यटक आईआरसीटीसी के टुरिज्म साइड पर इस संबंध में जानकारी ले सकेंगे।

डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर के महान कार्यों को ध्यान रखते हुए उनके सम्मान में स्पेशल पर्यटन गाड़ी का संचालन करने का निर्णय लिया है। 12 दिन तक यह गाड़ी डॉ. आंबेडकर के जीवन से संबंधित स्थलों से गुजरेगी। पर्यटकों को टूर पैकेज में सुविधाएं दी जाएंगी। इसके लिए यात्री को 11 हजार 3 सौ 40 रुपए की टिकट खरीदनी होगी। रहने खाने की व्यवस्था भी पैकेज में ही होगी।

खबरें और भी हैं...