दैनिक भास्कर हिंदी: लॉ कॉलेज में शिक्षकों की शीघ्र होगी भर्तीयां

February 1st, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  राष्ट्रसंत तुकड़ोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय द्वारा संचालित डॉ. बाबासाहब आंबेडकर लॉ कॉलेज में कई वर्षों से खाली पड़े शिक्षकों के पदों पर नियुक्ति प्रक्रिया शुरू करने की हलचलें तेज हुई हैं। हाल ही में मुंबई में आयोजित उच्च शिक्षा विभाग के अधिकारियों व कुलगुरु डॉ.सिद्धार्थ विनायक काणे के बीच बैठक हुई। इसमें उच्च शिक्षा विभाग ने नागपुर विश्वविद्यालय से लॉ कॉलेज में नियुक्ति के लिए नए सिरे से रोस्टर मंगाए हैं।

दरअसल, कॉलेज में शिक्षकों की नियुक्तियों का मसला हाईकोर्ट में विचाराधीन है। लॉ कॉलेज के दो विद्यार्थियों द्वारा दायर मध्यस्थी अर्जी पर बीते दिनों हाईकोर्ट ने नागपुर विवि को  लॉ कॉलेज में शिक्षक पदभर्ती से जुड़ा प्रस्ताव दो सप्ताह के भीतर राज्य उच्च शिक्षा विभाग को भेजने को कहा था। उच्च शिक्षा विभाग को इसके अगले तीन सप्ताह में पदभर्ती पर ठोस निर्णय लेना को कहा गया था। इसके बाद अब लॉ कॉलेज में भी नियुक्ति को लेकर हलचलें शुरू हुई हैं। 

कांट्रैक्ट बेसिस शिक्षकों के भरोसे काम
अपना पक्ष रखते हुए नागपुर विवि ने हाईकोर्ट में बीते दिनों दलील दी थी कि उन्होंने  वर्ष 2017 में ही कॉलेज में पदभर्ती के प्रयास किए थे, मगर राज्य सरकार ने उस पर रोक लगा दी थी। ऐसे में विवि अब यहां कांट्रैक्ट बेसिस पर शिक्षक नियुक्त कर रहा है। 

शैक्षणिक गुणवत्ता पर असर 
नागपुर के सबसे पुराने लॉ कॉलेजों में से एक नागपुर विवि के इस लॉ कॉलेज में कई वर्षों से शिक्षकों के पद रिक्त हैं। पदभर्ती नहीं होने से स्थिति कुछ यूं हो गई है कि कॉलेज के 700 विद्यार्थियों पर एक प्राचार्य और दो मान्यता प्राप्त शिक्षक ही हैं। शेष काम कांट्रिब्यूटरी शिक्षकों के सहारे चल रहा है, इसका विपरीत असर कॉलेज की शैक्षणिक गुणवत्ता पर पड़ रहा है। इधर राज्य सरकार की ओर से हाईकोर्ट को जानकारी दी गई थी कि उन्होंने 6 सितंबर को ही नागपुर विवि को पत्र भेज कर कॉलेज में पदभर्ती संबंधी प्रस्ताव मांगा था। इसके बाद हाईकोर्ट ने यह आदेश जारी किए थे। 

खबरें और भी हैं...