दैनिक भास्कर हिंदी: मध्यप्रदेश में संविदा कर्मचारी की नियुक्ति पर जल्द लगेगी रोक : शिवराज

March 31st, 2018

डिजिटल डेस्क शहडोल। सोहागपुर हाउस में पत्रकारों से बात करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान स्पष्ट रूप से बोले कि मै मानता हूं कि संविदा की जो व्यवस्था वह ठीक नहीं है यह व्यवस्था समाप्त हाना चाहिए । यह शोषण करने वाली व्यवस्था है, मैं भी इसके खिलाफ हूँ, जो आंदोलन नहीं कर रहे मैं उनसे बात कर रहा, आंदोलन करने वालों से कोई बात नहीं होगी। सोहागपुर हाउस में पत्रकारों से बात करते हुए सीएम बोले कि सरकार अपनी जिम्मेदरी हर हाल में निभएगी । जो आंदोलन कर रहे हैं उनसे बात नहीं हो सकती ओदोलन और बातचीत दोनों एक साथ संभव पैसे भी नहीं है आंगनवाड़ी की बहनों को 8 तारीख को बुलाया गया है उनसे बातचीत की जाएगी जिन भी कर्मचारियों को असंतोष है वह बातचीत के माध्यम से हल किया जा सकता है । आंदोलन करना कोई रास्ता नहीं है सरकार सभी के कल्याण हेतु प्रयासरत है और प्रदेश के हर एक नागरिक के कल्याण के लिए गंभीर रूप से चिंतन जा रही है ।
गौरतलब है कि सीएम यहां बैगा सम्मेलन में भाग लेने आए थे और उन्होंने बैगाओं के लिए सरकार का खजाना खोल दिया है । मुख्यमंत्री ने कहा कि अध्यापक हों, अतिथि विद्वान हों, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता हों, पहले आंदोलन समाप्त करें फिर बात होगी। उन्होंने कहा कि 8 अपै्रल को आंगनबाड़ी की बहनों को चर्चा के लिए बुला रहा हूं। चर्चा होगी।
सीएम ने लगाए ठुमके
लालपुर में बैगा सम्मेलन स्थल पर कार्यक्रम के बाद मुख्यमंत्री के स्वागत में बैगा जनजाति का परंपरागत नृत्य प्रस्तुत किया गया। इस दौरान श्री चौहान स्वयं को नहीं रोक पाये और बैगा आदिवासियों के साथ जमकर ठुमके लगाते हुए उनके साथ काफी देर तक नृत्य किया।
लगाई चौपालकरकटी में मुख्यमंत्री ने चौपाल लगाई। देर रात चौपाल में स्थानीय जनता से रूबरू चर्चा की। इस दौरान लोगों ने उन्हें मौखिक व लिखित समस्याओं से अवगत कराया। मौके पर उपस्थित अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए।
कंकाली माता का किया दर्शन
शनिवार की सुबह 8.45 बजे रेस्ट हाउस से अंतरा स्थित कंकाली माता मंदिर दर्शन के लिए सड़क मार्ग से रवाना हुये। 30 मिनट का सफर उन्होंने डेढ़ घंटे में तय किया। क्योंकि रास्तों में लोग उनके स्वागत के लिए खड़े रहे। करीब 11 बजे मंदिर में दर्शन किया और माता का आशीर्वाद लिया। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री जब भी शहडोल आये हैं और रात्रि विश्राम किया, कंकाली माता के दर्शन करने अवश्य पहुंचे हैं। दोपहर करीब 12 बजे हैलीकॉप्टर से रवाना हो गये।