दैनिक भास्कर हिंदी: गोदावल रेंज में मिला तेंदुए का शव, चार पहले हो चुकी थी मौत

February 19th, 2019

डिजिटल डेस्क, शहडोल । ब्यौहारी के गोदावल रेंज में  तेंदुए का शव का बरामद किया गया है। शव तीन-चार दिन पुराना है, जिससे उसमें सडन शुरु हो गई थी। अधिकारियों के मुताबिक शव मादा तेंदुआ का है और उसकी मौत प्राकृतिक बताया जा रहा है। पीएम रिपोर्ट में भी उम्र 14 से 15 वर्ष बताई गई है।

उत्तर वन मण्डल के डीएफओ देवांशु शेखर ने बताया कि चौकीदार को शाम करीब 5.30 बजे शव की सूचना मिली थी। उसने तत्काल वरिष्ट अधिकारियों को सूचित किया। सोमवार को अधिकारियों की मौजूदगी में शव का पोस्टमार्टम कराया गया। उन्होंने बताया कि जहां से शव बरामद किया गया है वह काफी दुर्गम इलाका है और पहाड़ी बीच में है। वहां जाने के लिए करीब ढाई किलोमीटर चढ़ाई चढनी पड़ती है। यह आबादी से भी काफी दूर है। इसलिए शिकार की संभावना नहीं है। पीएम करने वाले डॉक्टरों ने भी मादा तेंदुए की उम्र 14-15 वर्ष बताई है। इसलिए माना जा रहा है कि यह प्राकृतिक मौत ही है। हालांकि सैंपल को जांच के लिए सागर भेजा गया है।
मौके पर होगा समस्याओं का समाधान
शीघ्र शुरु होने वाले खांड़ा रामपुर ओपेन माइंस को लेकर जमीन से संबंधित विवादों और मुआवजा व नौकरी संबंधित अन्य प्रकार की समस्याओं का निराकरण स्थल पर ही किया जाएगा। रामपुर में राजस्व अधिकारी व एसईसीएम के अधिकारी मंगलवार से मौजूद रहेंगे, जो प्रभावित ग्रामीणों की समस्याओं का निदान करेेंगे। उक्त निर्देश एसडीएम सोहागपुर रमेश सिंह ने दोनों विभागों के अधिकारियों को आंदोलन स्थल पर ही दिए हैं। गौरतलब है कि ग्राम रामपुर सहित कई गांवों के लोगों ने एसईसीएल पर वादा खिलाफी का आरोप लगाते हुए सोमवार को ग्राम बटुरा में हाइवे पर जाम लगा दिया। ग्रामीणों ने आरोपित किया है कि रामपुर तथा बेलिया में कालरी के लिए जमीनों को अधिग्रहण करने के बाद न तो ठीक तरह से मुआवजा ही दिया गया और न ही नियमों के अनुसार नौकरी दी जा रही है। जमीनों के अधिगृहण हो जाने के बाद उन जमीनों का उपयोग नहीं कर पा रहे हैं। नौकरी व मुआवजा नहीं मिलने से लोग जमीनें होते हुए भी बेराजगार हो गए हैं। प्रशासन की ओर से एसडीएम रमेश सिंह, तहसीलदार बुढ़ार, पुलिस अधिकारी तथा पुलिस बल काफी संख्या में उपस्थित रहे। मौके पर ही एसडीएम ने कालरी अधिकारियों से कहा कि सभी समस्याओं को सुलझाने की रुकी प्रक्रिया के आगे बढ़ाएं। इसके बाद आंदोलन समाप्त हुआ। धरना प्रारम्भ के पूर्व शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित किया गया।

 

खबरें और भी हैं...