comScore

बारिश के पहले ही लबालब हैं नागपुर के जलाशय, 2 साल तक बुझती रहेगी प्यास

बारिश के पहले ही लबालब हैं नागपुर के जलाशय, 2 साल तक बुझती रहेगी प्यास

डिजिटल डेस्क, नागपुर। पिछले साल बूंद-बूंद को तरस रहे तोतलाडोह और नवेगांव खैरी जलाशय में इस बार पानी इतना है कि अगर बारिश नहीं भी हुई तो दो साल तक नागपुर शहर की आराम से प्यास बुझ सकती है। रविवार तक तोतलाडोह जलाशय में 749.67 टीएमसी यानी 73.72 प्रतिशत और नवेगांव खैरी में 115.71 टीएमसी यानी 81.50 प्रतिशत जलभंडारण था। गत वर्ष इसी तारीख पर तोतलाडोह और नवेगांव का जलभंडारण शून्य था। करीब 15 वर्ष बाद शहर के लिए मृत भंडारण (डेड-स्टॉक) से पानी उठाना पड़ा था। फिलहाल इस बार संतोषजनक स्थिति है। तोतलाडोह सहित नागपुर विभाग के अन्य 17 बड़े जलाशयों में भी पर्याप्त पानी है। 18 बड़े जलाशयों में मौजूदा स्थिति में 1480.17 टीएमसी यानी 41.66 प्रतिशत पानी है। 

पिछले साल मई में ही खत्म हो गया था पानी 
नागपुर शहर के लिए पिछला वर्ष सबसे बुरा रहा। देर से बारिश होने के कारण शहर को भीषण जलसंकट का सामना करना पड़ा। मई में ही तोतलाडोह और नवेगांव खैरी का जल-भंडारण समाप्त हो गया। ऐसे में मनपा को  राज्य सरकार से तोतलाडोह के  डेड-स्टॉक से पानी उठाने की अनुमति लेनी पड़ी। इसके बाद शहर में एक दिन अंतराल से जलापूर्ति की गई। करीब 15 अगस्त तक शहर में यहीं स्थिति रही। मध्य प्रदेश में जमकर बारिश होने पर 15 अगस्त को चौराई बांध से पानी छोड़ा गया। इसके बाद तोतलाडोह में पानी जमा होना शुरू हुआ। कुछ दिनों बाद महाराष्ट्र के तोतलाडोह क्षेत्र में भी बारिश हुई। तब जाकर तोतलाडोह और नवेगांव खैरी बांध में स्थिति संतोषजनक बनी। एक समय ऐसा भी आया कि तोतलाडोह 100 प्रतिशत लबालब हो गया और उसके गेट खोलने पड़े। फिलहाल पिछले अनुभव को देखते हुए मनपा प्रशासन ने जल भंडारण के लिए अनेक उपाय योजना शुरू किए हैं।

नागपुर विभाग के 18 बड़े जलाशयों में 41% से ज्यादा पानी

नागपुर विभाग में 18 बड़े जलाशय हैं, जो संबंधित शहर, निकाय को जलापूर्ति करते हैं। तोतलाडोह से नागपुर को जलापूर्ति होती है। 

नागपुर 
तोतलाडोह     -     73.72% 
कामठी खैरी     -     71.50%
रामटेक (खिंडसी)    -     13.94%
लोवर नांद     -     22.90% 
वड़गांव बांध     -     47.83%

गोंदिया
इटियाडोह     -     29.45%
सिरपुर    -     17.07%
पुजारीटोला     -     66.74%
धापेवाड़ा बैराज-2    -     35.53% 

चंद्रपुर
असोलामेंढा  -  78.67%

गड़चिरोली
दिना     - 18.58%

वर्धा
बोर    -     42.06%
धाम जलाशय    -     37.73%
पोथरा    -     17.77%
लोअर वर्धा    -     54.77%

भंडारा
गोसीखुर्द     -     5.92%
बावनथड़ी     -     28% 

कमेंट करें
ygx3a