दैनिक भास्कर हिंदी: चलान पेश करने एएसआई मांग रहा था रिश्वत, लोकायुक्त टीम ने दबोचा

November 16th, 2018

डिजिटल डेस्क, टीकमगढ़। चलान पेश करने के नाम पर देहात थाना में पदस्थ एएसआई तीन हजार रुपए की डिमांड कर रहा था। पीडि़त की शिकायत पर कार्रवाई करते हुए सागर लोकयुक्त की टीम ने आरोपी एएसआई को रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया है।  लोकायुक्त टीम ने देहात थाना में पदस्थ एएसआई संतोष सिंह गोंड़ को एक हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए पकड़ा है। एएसआई ने एक प्रकरण में विवेचना के बाद चालान पेश करने की एवज में फरियादी से 3 हजार रुपए की रिश्वत बतौर सुविधा शुल्क के रूप में मांगी थी।

सागर लोकायुक्त टीम निरीक्षक मंजू सिंह ने बताया कि लगभग एक माह पूर्व फरियादी मन्नूलाल अहिरवार निवासी ग्राम कांटी ने शिकायत दर्ज कराई थी कि उसका एक प्रकरण देहात थाना में दर्ज है। उक्त प्रकरण की विवेचना एएसआई संतोष सिंह गोंड़ द्वारा की जा रही है। विवेचना पूर्ण होने के बाद भी एएसआई द्वारा चालान पेश करने के एवज में 3 हजार रुपए की रिश्वत  की मांग की जा रही है, जो वह नहीं देना चाहता और एएसआई पर कार्रवाई करने के लिए गुहार लगाई गई थी। गुरुवार के दिन फरियादी मन्नूलाल अहिरवार और एएसआई संतोष सिंह गोंड़ के बीच लेनदेन की बात निर्धारित हुई और जैसे ही फरियादी ने एएसआई को एक हजार रुपए की रिश्वत दी तो उसे पुलिस लाइन के समीप से रंगेहाथ पकड़ा गया।

लोकायुक्त पुलिस को देखकर रिश्वतखोर एएसआई घबरा गया और अपने आपको निर्दोश बताते हुए, खुद को बचाने का प्रयास करता रहा।  लोकायुक्त टीम आरोपी एएसआई संतोष सिंह गोंड़ एवं फरियादी मन्नूलाल अहिरवार को लेकर कोतवाली पहुंची और यहां कार्रवाई को अमल में लाया गया। लोकायुक्त टीम ने जैसे ही एएसआई के हाथ धुलाए भ्रष्टाचार का रंग उसके हाथ से निकल पड़ा। कार्रवाई करने सागर से पहुंची टीम में निरीक्षक मंजू सिंह, प्रधान आरक्षक महेश हजारी, आरक्षक संजू अग्निहोत्री, अरविंद नायक, संतोष गोस्वामी, गनेश सिंह कुशवाह, सुरेन्द्र सिंह प्रमुख रूप से शामिल रहे। जिनके द्वारा रिश्वत लेते हुए एएसआई संतोष सिंह गोंड़ को पकड़ा गया और कार्रवाई को अंजाम दिया।

 

खबरें और भी हैं...