दैनिक भास्कर हिंदी: यह समय राजनीतिक संघर्ष का नहीं: शरद पवार

April 15th, 2020

हाईलाइट

  • एकजुट होकर कोरोना का मुकाबला करने कहा

डिजिटल डेस्क, मुंबई। राजनीति में राजनीतिक संघर्ष आम बात है। इसमें कुछ गलत नहीं, लेकिन विश्वव्य़ापी संकट की इस घड़ी में एक दूसरे के खिलाफ संघर्ष करने का यह समय नहीं है। इस समय यह बात महत्वपूर्ण नहीं है कि महाराष्ट्र में किसकी सरकार है और दिल्ली में किसकी। फिलहाल हम सभी को एकजुट होकर कोरोना का मुकाबला करना है। यह बात राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के अध्यक्ष शरद पवार ने कही। 

बुधवार को सोशल मीडिया के माध्यम से जनता से संवाद में पवार ने कहा कि इस वक्त देश पर भारी संकट आया हुआ है। भारत सरकार, राज्य सरकार, पूरी सरकारी मशीनरी, डाक्टर व मेडिकल इस जंग को जीतने की कोशिश कर रहे हैं। देश के प्रधानमंत्री ने जो बाते कहीं हैं, उसे सभी को माननी चाहिए। प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की एक ही भूमिका है। परिस्थिति की गंभीरता को देखते हुए लॉकडाउन 3 मई तक बढ़ाना पड़ा है।उन्होंने कहा कि श्रमिकों की समस्याओं के समाधान श्रम मंत्री दिलीप वलसे पाटील व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे जरुरी कदम उठा रहे हैं।

लॉकडाउन का उलंघन करने वालों का सोशल मीडिया पर शर्मिंदा कर रही पुलिस
 लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करने वालों को सजा देने के लिए महाराष्ट्र में कोल्हापुर पुलिस ने एक नया तरीका निकाला है जिसके तहत सोशल मीडिया में ऐसे लोगों के चित्र डालकर उन्हें सार्वजनिक रूप से शर्मसार किया जा रहा है। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि मंगलवारसे शुरू की गई इस कार्रवाई में अब तक 40 से अधिक व्यक्तियों को दंडित किया जा चुका है । उन्होंने बताया कि कुछ पढ़े लिखे और“अधिक चालाक”लोग जानबूझकर सुबहऔरशाम की सैर के बहाने  लॉकडाउन के नियम तोड़कर घर से बाहर  निकल रहे थे जिन पर कार्रवाई की गई। कोल्हापुर पुलिस अधीक्षक अभिनव देशमुख ने बताया कि ऐसे लोगों को दण्डित करने के लिए हमने सेल्फी लेने के लिए कुछ स्थान चिन्हित किए थे जहां ‘मैं जिम्मेदार हूँ, मैं स्वार्थी हूँ’ जैसे संदेश लिखे गए है। नियम तोड़ने वालों को उन स्थानों पर सेल्फी लेने और पुलिस के फेसबुक पेज पर पोस्ट करने को कहा जा रहा है।उन्होंने बताया कि इस प्रकार दण्डित किए जाने से कर्फ्यू का उल्लंघन करने वाले शिक्षित लोगों पर सामाजिक दबाव बनेगा।