दैनिक भास्कर हिंदी: ताड़ोबा में अब नहीं चलेगी लेट-लतीफीस  15 मिनट देरी पर देना होगा 500 रुपए जुर्माना

January 6th, 2019

डिजिटल डेस्क, चंद्रपुर। बाघों व तेंदुए के लिए प्रसिद्ध ताडोबा अंधारी व्याघ्र प्रकल्प में अब पर्यटकों की लेट-लतीफी पर रोक लग गया है। सफारी के लिए निश्चित समय सुबह 6 बजे व दोपहर 2 बजे की पाली में आनेवाले पर्यटकों को जरा सी भी देर होने पर 500 रुपए जुर्माना देना पड़ेगा। गौरतलब है कि ताड़ोबा में देश से ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया से पर्यटक आते हैं। पिछले कुछ समय से सफारी के दौरान लगनेवाले विविध शुल्कों में वृद्धि की गई  है। जिससे पर्यटकों की जेब पर आर्थिक बोझ बढ़ा है। लेकिन अब 15 मिनट देर से पहुंचनेवाले पर्यटकों को 500 रुपए जुर्माना लगाने का निर्णय ताड़ोबा प्रशासन ने लिया है।  इसका कारण यह बताया जा रहा है कि देर से आनेवाले पर्यटक जंगल में जल्दी जाने के चक्कर में रफ्तार से वाहन दौड़ाते हैं। इससे वन्यजीवों की जान को खतरा बना रहता है।

पहले लागू हुए हैं कई सख्त नियम
ताड़ोबा में आने वाले टूरिस्टों से  वन्यजीवों की रक्षा करने के लिए पिछले कुछ माह में कई सख्त नियम लागू हुए हैं।   एन्ट्री, वाहन आदि पर भी विविध शुल्क बढ़ाए गए हैं।  जंगल सफारी के लिए लगभग 5 हजार रुपए खर्च करना पड़ता है। शुल्क बढ़ते जाने के कारण आम आदमी के लिए जंगल सफारी अब पहुंच के बाहर होता दिख रहा है।  ताड़ोबा से जुड़े कुछ लोगों ने बताया कि इस निर्णय से सफारी पर भी असर पड़ेगा। दूसरी ओर शुल्क बढ़ाने के चलते पर्यटकों में नाराजी है। वहीं पर्यावरण प्रेमी व सलाहकार समिति के कुछ सदस्यों ने इस पर नाराजी व्यक्त करते हुए कहा है कि यह निर्णय लेते समय उन्हें विश्वास में नहीं लिया गया। इस संबंध में ताड़ोबा प्रबंधन से संपर्क करने की कोशिश की गई, परंतु उनके संपर्क नहीं हो पाया। उल्लेखनीय है कि कुछ समय पूर्व ताड़ोबा प्रबंधन ने यहां आने वाले टूूरिस्टों के मोबाइल व कैमरे जंगल में  ले जाने पर भी रोक लगाई है।

खबरें और भी हैं...