दैनिक भास्कर हिंदी: गेहूं परिवहन में बोरों की हेराफेरी, आधी रात को एसडीएम ने क्लीनर को रंगे हाथ पकड़ा

May 23rd, 2018

डिजिटल डेस्क छिंदवाड़ा/पांढुर्ना। सहकारी समितियों से गोदाम तक परिवहन हो रही गेंहू की बोरियों में बड़े पैमाने पर हेराफेरी की जा रही है। एसडीएम और पुलिस की संयुक्त टीम ने सोमवार देर रात मोरडोंगरी बाइपास पर दबिश दी। इस दौरान उन्होंने छिंदवाड़ा की ओर से आ रहे गेंहू से लदे एक ट्रक की जांच की, जिसमें बिल्टी के आधार पर चार बोरे गेंहू कम मिला है। टीम ने खाली बोरे जब्त कर मामले को जांच में लिया है।

संख्या रहती है बराबर, कम हो जाता है माल
इन दिनों जिले के विभिन्न सहकारी समितियों में समर्थन मूल्य पर गेहूं की जमकर खरीदी हो रही है, अधिकांश गोदाम फुल हो चुके है। कुछ दिन पहले पांढुर्ना के हरेराम कॉटन इंडस्ट्रीज के गोदामों को नागरिक आपूर्ति विभाग ने किराए पर लिया। बीती रात छिंदवाड़ा की परसगांव सहकारी समिति से ट्रक क्रमांक एमपी28 एच1482 में 35 टन (700 बोरे) गेहूं लेकर पांढुर्ना लाए जा रहे थे। रात करीब एक बजे एसडीएम दीपक कुमार वैद्य और टीआई मोहन सिंह मर्सकोले क्षेत्र का भ्रमण कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने बायपास पर यह ट्रक खड़ा देखा। ट्रक का क्लीनर कुछ बोरों को इधर-उधर कर रहा था। नजदीक आने पर क्लीनर छिपने की कोशिश करने लगा। शंका के आधार पर प्रशासन ने ट्रक थाने में खड़ा करवा दिया।

बिल्टी में लिखी मात्रा से कम मिले चार बोरे
मंगलवार की दोपहर हरेराम कॉटन इंडस्ट्रीज के गोदाम में आपूर्ति अधिकारी एनएल धारू, नायब तहसीलदार विक्रम राठौर के समक्ष ट्रक खाली कराया गया। इसमें बिल्टी के हिसाब से चार बोरे गेंहू कम मिला। वहीं ट्रक के केबिन में से चार खाली बोरे जब्त हुए। जानकारों का कहना है कि बाहर से आ रहे ट्रकों के ड्राइवर-क्लीनर बीच रास्तों में ढाबे वालों या अन्य लोगों को गेहूं बेच देते है। कई बार अनलोडिंग के समय तेजी से माल उतरने और व्यवहार (वराई) के कारण गिनती नहीं हो पाती।

क्या कहते हैं अधिकारी
शंका होने पर एक ट्रक को थाने में खड़ा कराया गया था। जिसकी गिनती कराने पर चार बोरे गेहंू कम मिला है। वहीं केबिन से चार खाली बोरे जब्त किए गए है। मामले की जांच कर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।
-दीपक कुमार वैद्य, एसडीएम, पांढुर्ना।