comScore

दो बच्चों की मौत के बाद खुली नींद, जिला परिषद स्कूलों का होगा सेफ्टी ऑडिट

August 20th, 2018 14:32 IST
दो बच्चों की मौत के बाद खुली नींद, जिला परिषद स्कूलों का होगा सेफ्टी ऑडिट

डिजिटल डेस्क, नागपुर। जिला परिषद स्कूलों की अनेक पुरानी इमारतें जीर्ण हो चुकी हैं। विगत दिनों स्कूलों से सटे विद्युत तारों के संपर्क में आने से दो विद्यार्थियों को जान गंवानी पड़ी थी। इन घटनाओं से सबक लेकर सुरक्षा की दृष्टि से जिला परिषद स्कूलों का सेफ्टी ऑडिट करने के निर्देश सीईओ संजय यादव ने दिए हैं। जिला परिषद द्वारा 1539 स्कूल संचालित किए  जाते हैं। इन स्कूलों में 72 हजार से अधिक विद्यार्थी पढ़ते हैं। जिप के अनेक स्कूल जीर्ण हो चुके हैं। स्कूल से सटे विद्युत तार तथा इमारतों में बेतरतीब फैलाए गए वायर से विद्यार्थी असुरक्षित हैं। जुलाई महीने में हिंगना तहसील के दाभा तांडा और रामटेक तहसील के जुनीवाणी में स्कूल के मैदान में खेल रहे विद्यार्थी भी विद्युत तार के संपर्क में आकर मृत्यु हो गई थी।घटना से क्षेत्र में तनाव की स्थिति निर्माण हो गई थी। इन घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो, इसलिए जिला परिषद प्रशासन ने एेहतियात बरतते हुए स्कूलों का सेफ्टी ऑडिट करने का कदम उठाया है। 

विशेष दल का शीघ्र होगा गठन
उल्लेखनीय है कि जिप की आमसभा में विद्यार्थियों की सुरक्षा का सवाल उठाए जाने पर स्कूलों की सुरक्षा जांच के लिए विशेष दल गठित करने का सभागृह को आश्वस्त किया गया। इमारत, विद्युत व्यवस्था, शौचालय, पीने के पानी की व्यवस्था, स्वास्थ्य सेवा आदि सुविधाओं का जायजा लिया जाएगा। संबंधित विभागों के सदस्याें को जांच दल में समावेश किया जाएगा। जिला परिषद स्कूलों का इस प्रकार ऑडिट कराने का पहली बार कदम उठाया गया है।

विद्यार्थियों की सुरक्षा अहम
स्कूलों में घटी दुर्घटना दु:खदायी है। इन घटनाओं से सबक लेकर स्कूलों का सेफ्टी ऑडिट करने के निर्देश दिए हैं। इसी के साथ स्कूलों में स्वास्थ्य सेवा, पीने का पानी, शौचालय आदि सुविधाओं का निरीक्षण किया जाएगा। जांच दल की रिपोर्ट आने पर इमारत की मरम्मत तथा स्कूल से सटे बिजली के तार हटाने के निर्देश दिए जाएंगे।
संजय यादव, सीईओ, जिला परिषद
 

कमेंट करें
h54US