comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

अज्ञात हमलावरों ने बाइक सवार किसान को मारी गोली

अज्ञात हमलावरों ने बाइक सवार किसान को मारी गोली

डिजिटल डेस्क, सतना। अज्ञात हमलावरों ने बाइक सवार किसान को गोली मार दी। घटना उस समय घटी जब वह एक ट्रक को ओवर टेक कर रहा था। उस समय उसे ऐंसा आभास कि जैसे सड़क की गिट्टी उछलकर उसे लग गई हो घर पास में ही होने के कारण वह सीधे घर पर ही रूका ।  किसान को गोली मार जाने का अहसास तब हुआ जब उसने घर पहुंचकर देखा कि उसके कपड़े खून से लथपथ हो गए हैं और कमर से खून रिस रहा है। यह जानकारी उसने अपने परिजनों को दी। खून देखकर घरवाले घबरा गए और बिरला अस्पताल लेकर पहुंचे। सीटी स्केन कराने के बावजूद समझ नहीं आया तो ऑपरेशन किया गया। शल्यक्रिया के बाद ही पता चला कि किसान को किसी ने गोली मार दी। बहरहाल, सिविल लाइन्स पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ गैरइरादतन हत्या का मुकदमा पंजीबद्ध कर लिया है।

गांव से सतना आते  समय हमला
कोठी थानातंर्गत भैंसवार निवासी 37 वर्षीय ललित मिश्रा तनय ओमप्रकाश मिश्रा 11 बजे  के करीब गांव से सतना लौट रहे थे। यहां वे संतनगर बगहा में सपरिवार रहते हैं। पेशे से किसान ललित जिस वक्त पशुपतिनाथ मंदिर के आगे गर्ग टे्रडर्स के पास पहुंचे कि एक ट्रक और बाइक ने ओवरटेक किया। इस बीच उन्हें आभास हुआ कि कोई गिट्टी छिटक कर उनके कमर में लग गई है। हल्का दर्द का अहसास होने लगा। 5 मिनट के भीतर ही श्री मिश्रा घर पहुंच गए। फौरन उन्होंने कपड़ा उतारकर यह देखने का प्रयास किया कि आखिरकार उनके कमर के बीचों बीच क्या चीज लगी है।

लहुलुहान थे कपड़े
घर पहुंचते-पहुंचते ललित के कपड़े लहुलुहान हो गए थे। इस उन्हें समझते देर नहीं लगी कि यह खून गिट्टी से नहीं बल्कि गोली लगने की बदौलत रिस रहा है। उन्होंने इसकी पूरी जानकारी घरवालों को बताई तो सबने अस्पताल ले जाने में ही भलाई समझी। ललित को बिरला अस्पताल ले जाया गया। सर्जिकल स्पेशलिस्ट डॉ. संजय माहेश्वरी ने असल वजह जानने के लिए सीटी स्केन कराया मगर सीटी स्केन में भी निराशा ही हाथ लगी। डॉ. माहेश्वरी ने अंतत: सर्जरी करने का फैसला लिया। एक घंटे की सर्जरी के बाद ललित के कमर से गोली निकाली गई।

पुलिस महकमे में हड़कम्प
किसान को गोली लगने की खबर सोशल मीडिया में बड़ी तेजी के साथ फैली। पुलिस भी सकते में आ गई। सीएसपी विजय प्रताप सिंह खुद घटनास्थल का जायजा लेने पहुंचे लेकिन उन्हें मौके पर गिट्टी-कंकड़ जैसा कुछ भी नहीं मिला। इसके बाद एडिशनल एसपी गौतम सोलंकी, सीएसपी, सिविल लाइन्स थाना प्रभारी डीडी खान, कोलगवां थाना से एसआई राजेन्द्र कुमार मिश्रा पुलिस बल के साथ बिरला अस्पताल पहुंचे। सिविल लाइन्स पुलिस ने आईपीसी 308 तहत अज्ञात के खिलाफ गैरइरादतन हत्या का मामला पंजीबद्ध किया गया है।
 

कमेंट करें
pID6w
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।