comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

विदेश में भी बैठकर दे सकेंगे विश्वविद्यालय की पेट परीक्षा

विदेश में भी बैठकर दे सकेंगे विश्वविद्यालय की पेट परीक्षा

डिजिटल डेस्क, नागपुर। राष्ट्रसंत तुकड़ोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय से पीएचडी करने के इच्छुक विदेशी विद्यार्थियों के लिए नागपुर यूनिवर्सिटी ने एक नई सुविधा देने का फैसला लिया है। ये अभ्यर्थी अपने देश में बैठकर ऑनलाइन मोड में पेट परीक्षा दे सकते हैं। यूनिवर्सिटी प्रशासन के अनुसार विदेशों में रहने वाले कई अभ्यर्थियों ने यूनिवर्सिटी से संपर्क कर नागपुर यूनिवर्सिटी से पीएचडी करने की मंशा जाहिर की है। इसी को देखते हुए विश्वविद्यालय ने यह कदम उठाया है। इस सूची में दुबई, मायांमार, भुटान जैसे एशियाई देशों के अभ्यर्थी शामिल हैं। 

यूनिवर्सिटी की ओर आकर्षित हो रहे विद्यार्थी 
उल्लेखनीय है कि यूनिवर्सिटी की पेट परीक्षा ऑनलाइन मोड में होने जा रही है। सिर्फ यहां के विद्यार्थियों को परीक्षा केंद्र पर जाकर ऑनलाइन परीक्षा देनी होगी। इसके अलावा प्रदेश में विविध क्षेत्रों में रहने वाले अभ्यर्थियों के लिए संबंधित क्षेत्र में स्थित विश्वविद्यालय से समन्वय स्थापित कर वहां परीक्षा केंद्र देने पर विचार किया जा रहा है। नागपुर यूनिवर्सिटी से पालि और प्राकृत भाषा में पीएचडी करने के लिए बौद्ध अनुयायी देशों से अभ्यर्थी पीएचडी करने के लिए आते हैं, लेकिन अब धीरे-धीरे अन्य विषयों के अभ्यर्थी भी नागपुर यूनिवर्सिटी की ओर आकर्षित हो रहे हैं। कुछ विद्यार्थियों ने विवि अधिकारियों से इस संदर्भ में संपर्क किया था, जिसके बाद यूनिवर्सिटी ने यह कदम उठाया है। 

अब तक 2230 पंजीयन
पेट परीक्षा के लिए ऑनलाइन पंजीयन 1 अप्रैल से शुरू हो चुके हैं।  अभ्यर्थी 24 अप्रैल तक https://nagpur.university/PHDPortal पर पंजीयन करा सकते हैं। यूनिवर्सिटी  से प्राप्त जानकारी के अनुसार बुधवार शाम तक कुल 2230 अभ्यर्थियों ने ऑनलाइन पंजीयन कराया। कुल 720 अभ्यर्थियों ने फीस व अन्य दस्तावेज अपलोड कर आवेदन निश्चित किया है। यूनिवर्सिटी अधिकारियों का आकलन है कि इस वर्ष करीब 4 से 5 हजार परीक्षार्थी पेट परीक्षा दे सकते हैं। 

नियम और शर्तें
-पीएचडी के इच्छुक अभ्यर्थियों को पोस्ट ग्रेजुएशन में कम से कम 55% (आरक्षित प्रवर्ग के लिए 50%) प्राप्त हुए हों। 
-नेट-सेट या एम.फिल डिग्री धारकों को पेट परीक्षा देने की जरूरत नहीं है। वे पहले ही रजिस्ट्रेशन के लिए पात्र माने जाएंगे। 
-पेट परीक्षा कुल 100 अंकों की होगी। परीक्षा के दो हिस्से होंगे। पहला रिसर्च मैथेडोलॉजी और दूसरा जनरल एप्टीट्यूड। दोनों भागों में 50--50 प्रश्न पूछे जाएंगे। प्रत्येक प्रश्न पर 1 अंक निर्धारित होगा। परीक्षा 90 मिनट चलेगी। अभ्यर्थी अंग्रेजी, हिंदी या मराठी में परीक्षा दे सकते हैं। 
-पेट परीक्षा में उत्तीर्ण होने के लिए रिसर्च मैथेडोलॉजी और जनरल एप्टीट्यूड दोनों में कम से कम 40% अंक और संयुक्त रूप से कम से कम 50% जरूरी है।

कमेंट करें
KkQxf