दैनिक भास्कर हिंदी: वनस्पति से बनाए चांदी के नैनो पार्टिकल

June 18th, 2020

डिजिटल डेस्क, बल्लारपुर(चंद्रपुर)। वैद्यकीय सौंदर्य प्रसाधन और औद्योगिक अनुप्रयोजन के लिए वनस्पति अर्क से चांदी के नैनो पार्टिकल्स बनाने की आसान व पर्यावरण पूरक राह विदर्भ के अनुसंधानकर्ताओं ने हाल ही में खोज निकाली है। इन अनुसंधानकर्ताओं का संज्ञान एल्सवेयर (युएसए)के मटेरियल टुडे इस मासिक पत्रिका ने लिया है। इस संशोधन कार्य में बल्लारपुर के गुरुनानक साइंस कॉलेज के डा. अमोल नांदेकर, एसपी कॉलेज चंद्रपुर की डा. उर्वशी माणिक नागपुर के डा. संजय ढोबले व डा. स्वाति राऊत-नांदे का समावेश है। 

यह सिल्वर नैनो पार्टिकल्स वैसे पहले से ही दवाओं में प्रतिजैविक एजेंट, दवा वितरण प्रणाली और कैन्सर उपचारों में केमिकल्स बना कर प्रयोग किए  जाते रहे हैं।  लेकिन यह शरीर के लिए घातक होने का डर था। सौंदर्य प्रसाधनों में भी इसका प्रयोग रासायनिक तर्ज पर हो रहा था। लेकिन चंद्रपुर, बल्लारपुर समेत विदर्भ के इन शोधकर्ताओं ने प्राकृतिक वनस्पति के माध्यम से अर्क से यह चांदी के नैनो पार्टिकल्स बनाए हैं, जिससे उपचार लेनेवाले, सौंदर्य प्रसाधन वस्तुओं का उपयोग करनेवाले को किसी भी प्रकार की हानि नहीं पहुंचेगी। इस बारे में जानकारी देते हुए डा. अमोल नांदे ने बताया कि इस संशोधन के लिए लगभग एक से डेढ़ वर्ष का समय लगा। इसके लिए एसपी कॉलेज, नागपुर विवि व कोचिन की प्रयोगशाला का उपयोग किया गया। कटहल व नीम के पत्ते उबालकर और छानने की प्रक्रिया से घूलनेवाला अर्क चांदी के नायट्रेट द्रावण में मिलाया जाता है। यह मिश्रण फिर से गर्म कर चांदी के नैनो पार्टिकल्स के रूप में एकत्रित किया जाता है। इस शोध के लिए आधुनिक तकनीक का उपयोग किया गया। यह रसायन जहरीला नहीं है। समय कम व सस्ते दर पर यह पार्टिकल्स बनाए जाते हैं। स्वास्थ्य के लिए पोषक होते हैं।