comScore

उपराष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने छत्रपति शिवाजी महाराज को दी श्रद्धांजलि, सीएम उद्धव और पवार ने किया नमन

उपराष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने छत्रपति शिवाजी महाराज को दी श्रद्धांजलि, सीएम उद्धव और पवार ने किया नमन

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मराठा योद्धा छत्रपति शिवाजी महाराज की 391वीं जयंती पर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि दी है। इन दोनों नेताओं ने शिवाजी महाराज के अदम्य साहस और बुद्धिमता को देशवासियों के लिए प्रेरणाप्रद बताया है। उपराष्ट्रपति नायडू ने ट्वीट कर कहा, ‘छत्रपति शिवाजी महाराज की जन्म जयंती के अवसर पर देश के प्रेरणा पुरूष को सादर नमन करता हूं, जिन्होने राष्ट्र की अस्मिता और एकता की रक्षा के लिए समाज और समुदायों का संगठित कर एक अजेय शक्ति में परविर्तित कर दिया’। प्रधानमंत्री मोदी ने अपने ट्वीट में कहा, ‘मां भारती के अमर सपूत छत्रपति शिवाजी महाराज को उनकी जयंती पर शत-शत नमन। उनके अदम्य साहस, अद्भुत शौर्य और असाधारण बुद्धिमत्ता की गाथा देशवासियों को युगों-युगों तक प्रेरित करती रहेगी। जय शिवाजी’। बता दें कि छत्रपति शिवाजी का जन्म 19 फरवरी 1630 में पुणे के शिवनेरी किले में हुआ था। उन्होने 1670 में मुगलों की सेना के साथ जमकर लोहा लिया था और सिंहगढ़ के किले पर अपना परचम लहराया था।

पुणे जिले में स्थिति शिवनेरी किले में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, उप मुख्यमंत्री अजित पवार ने किया नमन 

छत्रपति शिवाजी महाराज की जयंती के मौके पर शुक्रवार को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, उप मुख्यमंत्री अजित पवार व पर्यटन मंत्री आदित्य ठाकरे पुणे जिले में स्थिति शिवनेरी किला पहुंच कर शिवाजी महाराज की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि शिवाजी महाराज की ख्याति पूरे विश्व में पहुंचाई जाएगी।  

कमेंट करें
xQPms
NEXT STORY

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक का काउंटडाउन शुरु हो चुका हैं। 23 जुलाई से शुरु होने जा रहे एथलेटिक्स त्यौहार में भारतीय दल इस बार 120 खिलाड़ियों के साथ 18 खेलों में दावेदारी पेश करेगा। बता दें 81 खिलाड़ियों के लिए यह पहला ओलंपिक होगा। 120 सदस्यों के इस दल में मात्र दो ही खिलाड़ी ओलंपिक पदक विजेता हैं। पी.वी सिंधू ने 2016 रियो ओलंपिक में सिल्वर तो वहीं मैराकॉम ने 2012 लंदन ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया था।

भारत पहली बार फेंनसिग में चुनौता पेश करेगा। चेन्नई की भवानी देवी पदक की दावेदारी पेश करेंगी। भारत 20 साल के बाद घुड़सवारी में वापसी कर रहा है, बेंगलुरु के फवाद मिर्जा तीसरे ऐसे घुड़सवार हैं जो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। 

olympic

युवा कंधो पर दारोमदार

टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने जा रहे भारतीय दल में अधिकतर खिलाड़ी युवा हैं। 120 खिलाड़ियों में से 103 खिलाड़ी 30 से भी कम आयु के हैं। मात्र 17 खिलाड़ी ही 30 से ज्यादा उम्र के होंगे। 

भारतीय दल में 18-25 के बीच 55, 26-30 के बीच 48, 31-35 के बीच 10 तो वहीं 35+ उम्र के 7 खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। इस लिस्ट में सबसे युवा 18 साल के दिव्यांश सिंह पंवार हैं, जो शूटिंग में चुनौता पेश करेंगे, तो वहीं सबसे उम्रदराज 45 साल के मेराज अहमद खान होंगे जो शूटिंग में ही पदक के लिए भी दावेदार हैं।