दैनिक भास्कर हिंदी: उत्पात मचाने वाले हाथियों को रेस्क्यू कर किया कैद, अब बांधवगढ़ भेजे जाएंगे

September 20th, 2018

डिजिटल डेस्क, सीधी। पिछले डेढ़ माह से जिले के आदिवासी अंचल में ऊधम मचा रहे छत्तीसगढ़ से आए पांच हाथी रेस्क्यू अभियान के तहत एक-एक कर पकड़ लिए गए हैं। बेलगाम हाथियों को काबू में करने के बाद उन्हें अब  बांधवगढ़ नेशनल पार्क भेजे जाने की तैयारी की जा रही है। हाथियों के उत्पात से जिले के आधा सैकड़ा लोगों को नुकसानी उठानी पड़ी है।

गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ की ओर से जिले की सीमा में प्रवेश करने वाले हाथियों ने विभाग सहित ग्रामीणों की नाक में दम कर दिया था। हाथियों का समूह कुन्दौर गांव के समीप जंगल में डेरा जमाया था, फिर बाद में गांव के कच्चे घरों में तोड़ फोड़कर अनाज खा लिया और खेतों की फसलों केा तबाह कर दिया था। इस दौरान वन अमले द्वारा हाथियों को रोकने का काफी प्रयास किया गया लेकिन किसी तरह की सफलता नही मिल पा रही थी। हाथियों को काबू में करने बैट्री के करंट लगाये जा रहे थे, लेकिन उसका भी कोई असर नहीं पड़ रहा था।

रात के समय तो हाथियों के डर से लोग घर छोड़कर रतजगा कर रहे थे। जिस क्षेत्र में हाथियों के पहुंचने की खबर मिल रही थी वहां की स्कूलें भी बंद हो गई थी। हाथियों से धनहानि के साथ ही जनहानि का खतरा भी बढ़ गया था। बताया जाता है कि हाथियों का समूह बाद में कुसमी अंचल से चलकर टिकरी तक पहुंच गया और फिर चौफाल के पास जंगलों से होते हुये मझौली की ओर रूख कर गया था। बेलगाम हाथी जिस गांव में पहुंच रहे थे वहां सबसे ज्यादा कच्चे घरों को निशाना बनाया  था।

बताया गया है कि हाथियों को जिले से बाहर करने बुलाये गये विशेषज्ञों ने 7 सितम्बर से रेस्क्यू अभियान शुरू किया तो 16 सितम्बर तक पांचों हाथियों को काबू कर लिया गया। बता दें कि हाथियों के समूह में नर-मादा हाथी के अलावा एक बच्चा भी शामिल है। रेस्क्यू के बाद काबू में लाए गए हाथियों को अब बांधवगढ़ भेजने की तैयारी की जा रही है। रेस्क्यू अभियान बांधवगढ़ टाईगर रिजर्व के क्षेत्र संचालक मृदुल पाठक के नेतृत्व में ही चलाया गया है। इस दौरान संजय टाईगर रिजर्व, वनमंडल सीधी के अमले के अलावा बाहर से आये विशेषज्ञों की टीम रेस्क्यू में शामिल रही है।