चिंतन: बिजली केंद्र से होनेवाले प्रदूषण पर प्रतिबंध लगाने जनवरी में लेंगे बैठक : मुनगंटीवार

December 30th, 2021

डिजिटल डेस्क, चंद्रपुर। चंद्रपुर महाऔष्णिक बिजली केंद्र के कारण होने वाला प्रदूषण और इसके कारण नागरिकों के स्वास्थ्य पर होनेवाले परिणाम यह गंभीर समस्या है। इस प्रदूषण पर प्रतिबंध लगाने की दृष्टि से जनवरी माह में सभी संबंधित अधिकारियाें की बैठक आयोजित कर उपाययोजना की दिशा निश्चित करेंगे, यह बात विधानमंडल लोकलेखा समिति के प्रमुख तथा पूर्व वित्तमंत्री विधायक सुधीर मुनगंटीवार ने कही। चंद्रपुर बचाव संघर्ष समिति के पदाधिकारी व चंद्रपुर महाऔष्णिक विद्युत केंद्र के मुख्य अभियंता सपाटे के साथ विधायक मुनगंटीवार ने हिराई विश्रामगृह में बैठक ली। इस बैठक में चंद्रपुर बचाव संघर्ष समिति के अध्यक्ष डा.गोपाल मुंधडा ने प्रदूषण पर प्रतिबंध लगाने की दृष्टि से कुछ मांगें रखीं। इसमें प्रमुखत:  ईएसपी के अयोग्य कार्य व पुरानी मशीन से यूनिटों से निकलने वाली राख और धूल हवा में फेंका जाती है।

काला धुआं अर्थात कार्बन पार्टीकल ऑक्सीजन के साथ पूरी तरह से इस्तेमाल न होने से पार्टीकल की राख नहीं होती, जिससे राख आैर धूल का प्रमाण अधिक बढ़ता है। ईएसपी को बिजली निर्मिती के साथ क्लब करने की आवश्यकता है। ईएसपी का उचित मेंटेनन्स नहीं हाेता। ऐसी विभिन्न समस्या व मांगे समिति के पदाधिकारियों ने की। प्रदूषण के कारण नागरिकों का स्वास्थ खतरे में हैै। इस प्रदूषण पर प्रतिबंध लगाना जरूरी होने की बात  समिति द्वारा कही गई। इस पर विधायक मुनगंटीवार के समिति के पदाधिकारियों की मांगों को सुनकर इस संबंध में जिलाधिकारी, प्रदूषण नियंत्रण मंडल के अधिकारी, चंद्रपुर महाऔष्णिक विद्युत केंद्र के मुख्य महाप्रबंधक की संयुक्त बैठक लेकर उपायोजना के संबंध में चर्चा करने का आश्वासन समिति के पदाधिकारियों काे दिया। इस समय डा. गोपाल मुंधडा, डा. मंगेश गुलवाडे, विजय चंदावार, रामपाल सिंह, उमाकांत धांडे, प्रीति भूषणवार, डा. स्वपन दास, सुबोध कासुलकर आदि उपस्थित थे।