दैनिक भास्कर हिंदी: पोषण आहार की राशि के लिए भटक रहीं बैगा महिलाएं, नहीं मिल रहा सरकारी योजनाओं का लाभ

September 29th, 2018

डिजिटल डेस्क, शहडोल । जिले की बैगा महिलाओं के लिए शुरू की गई पोषण आहार योजना के तहत एक हजार रुपए का लाभ अधिकतर महिलाओं को नहीं मिल रहा है। कुछ ग्राम पंचायतों में तो अभी तक सूची में उनका नाम तक दर्ज नहीं किया गया है। रोजाना महिलाएं अपने फार्म लेकर बैगा विकास अभिकरण के दफ्तर पहुंच रही हैं। कोटमा, कंचनपुर, झिरिया (केशवाही) की दो दर्जन से अधिक महिलाएं  अपने फार्म लेकर कार्यालय पहुंची । सभी ने अपना फार्म जमा कराया। उनका कहना था कि अभी तक उनका नाम सूची में शामिल ही नहीं किया गया है। जबकि गांव में कुछ बैगा महिलाओं को पहले से ही एक हजार रुपए की राशि मिल रही है। झिरिया से बैगा महिलाएं दो हजार रुपए खर्च करके जिला मुख्यालय आई थीं। गौरतलब है कि योजना के लिए शिक्षकों के माध्यम से जो सर्वे कराया गया था, उसमें काफी लापरवाही बरती गई है। हर ग्राम पंचायत में कुछ न कुछ पात्र महिलाओं को छोड़ दिया गया है, जबकि कुछ जगह अपात्रों को शामिल कर लिया गया है।  मंगलवार को होने वाली कलेक्टर की जनसुनवाई में भी हर बार पोषण आहार की राशि नहीं मिलने संबंधी शिकायत पहुंचती है। पिछले दिनों गोहपारू ब्लॉक की 50 से अधिक महिलाएं इसी तरह की समस्या लेकर पहुंची थी। उन्होंने तो शिकायत में बताया था कि उनके गांव में शासन की किसी भी योजना का लाभ अभी तक उन्हें नहीं मिला है। 

फार्म ही जमा नहीं कराया
दो दिन पहले ग्राम पंचायत बोडऱी के हितग्राहियों के फार्म बैगा विकास अभिकरण के कार्यालय पहुंचे हैं। बताया जा रहा है कि शिक्षक ने सर्वे तो कर लिया था, लेकिन फार्म अपने घर पर रखकर भूल गया था। जब उससे पूछा गया तो वह फार्म जमा करने के लिए पहुंचा था। अधिकारियों ने बताया कि जो फार्म सीधे कार्यालय में जमा हो रहे हैं, उनका सत्यापन भी ग्राम पंचायत और बीएलओ के माध्यम से कराया जाएगा। बैगा विकास अभिकरण के परियोजना प्रशासक प्रयास कुमार प्रकाश ने बताया कि कार्यालय में सीधे फार्म जमा किए जा रहे हैं। बाद में इनका सत्यापन कराया जाएगा। इसके बाद ही हितग्राहियों के खातों में राशि अंतरित की जाएगी।

 

खबरें और भी हैं...