दैनिक भास्कर हिंदी: प्रदर्शनी में रखा जाएगा दुनिया का सबसे बड़ा सिक्का और नोट, कल से आयोजन

January 24th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  रामगोपाल माहेश्वरी सांस्कृतिक सभागृह मोर भवन, झांसी रानी चाैक में नागमनी प्रदर्शनी-2019 का आयोजन 25 से 27 जनवरी तक किया जाएगा, जिसमें दुनिया का सबसे बड़ा सिक्का और नोट रखा जाएगा। यह प्रदर्शनी न्यूमिसमेटिक रिसर्च इंस्टीट्यूट द्वारा आयोजित की जा रही है। यहां तरह-तरह के कॉइन और सिक्के लोगों को देखने को मिलेंगे। आस्ट्रेलिया का सिल्वर कॉइन जिसकी कीमत 300 डॉलर तथा वजन 10 किग्रा है तथा मलेशिया का 600 का रिंगगिट जिसकी साइज 370 गुणा 220 एमएम है मुख्य रूप से रखा जाएगा है। उक्त जानकारी पीयूष अग्रवाल ने प्रेस क्लब में आयोजित पत्रकार वार्ता में दी। 

किए जाएंगे पुरस्कृत

अग्रवाल ने बताया कि प्रदर्शनी का उद्घाटन 25 जनवरी को सुबह 11 बजे डिप्टी कमिश्नर जनरल संजई धिवरे करेंगे। इस दौरान प्रतियोगिता का भी आयोजन किया जाएगा। जिस स्टॉल में यूनिक और अट्रेक्टिव सिक्के और नोट होंगे उसे पुरस्कृत किया जाएगा। इसके लिए निर्णायक टीम का भी गठन किया गया है। तीन दिवसीय प्रदर्शनी का समय सुबह 10 से शाम 7 बजे तक होगा। दर्शकों के लिए प्रवेश नि:शुल्क है। पत्रकार वार्ता में भरत सरैया, जीसी नागदेव तथा संंजय मिश्रा उपस्थित थे।

सामूहिक राष्ट्रगीत गायन

 गणतंत्र दिवस पर फुटाला तालाब परिसर में सुबह 10.30 बजे, सामूहिक राष्ट्रगीत गायन "थरार राष्ट्रगीताचा' कार्यक्रम होगा। "एक वादल भारताचं' संगठन की ओर से आयोजित इस कार्यक्रम में हजारों नागरिकों के सहभागी होने की जानकारी वैभव शिंदे ने पत्र परिषद में दी। सभी सामाजिक तथा धार्मिक स्थलों पर ध्वजारोहण तथा राष्ट्रगीत का गायन होना चाहिए। इस संबंध में जनजागरण तथा नागरिकों में संवैधानिक कर्तव्यों के प्रति चेतना जागृत करने की दृष्टि से यह आयोजन किया गया है। आयोजन का कोई अध्यक्ष या प्रमुख अतिथि नहीं रहेगा। युवाओं ने एकत्रित होकर शुरू किया गया अनोखा उपक्रम है।

राजपथ की तर्ज पर होगी परेड

कार्यक्रम स्थल पर सुबह 9 बजे से शिवकालीन युद्ध कला का प्रदर्शन शुरू होगा। िदल्ली में राजपथ की तर्ज पर परेड का संचलन िकया जाएगा। एसआरपीएफ ग्रुप 4 का बैंड दल की शानदार प्रस्तुति होगी। ढोल-ताशा तथा मलखंब का प्रदर्शन होगा। यह आयोजन संपूर्ण भारतीयों को एकजुट करने में मील का पत्थर साबित होने का विश्वास शिंदे ने व्यक्त किया। पत्र परिषद में हितेश डफ, नाजिया पठान, शुभम गायकवाड़, रजत किनेकर, सचिन वाघाड़े, अश्विन वानखेड़े, रजनी घोड़ेश्वर, सुमित नागरकर आदि उपस्थित थे।