दैनिक भास्कर हिंदी: महापौर परिषद के विरोध में युवक कांग्रेस का प्रदर्शन, कार्यकर्ता हिरासत में

October 28th, 2018

डिजिटल डेस्क,नागपुर। महापाैर परिषद के विरोध में युवक कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया। प्रदर्शन की तीव्रता को देखते हुए पुलिस ने युवक कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया है। युवक कांग्रेस के कार्यकर्ताओं का कहना था कि महापौर परिषद के माध्यम से मनपा केवल विकास का दिखावा कर रही है। महापौर नंदा जिचकार को मनपा के आर्थिक नियोजन पर नियंत्रण नहीं है। गौरतलब है कि सिविल लाइन स्थिति वानामति अर्थात वसंतराव नाइक कृषि प्रबंधन संस्थान के सभागृह में शनिवार को महाराष्ट्र महापौर परिषद का आयोजन किया गया है। इस परिषद में राज्य की सभी मनपा के महापौरों को आमंत्रित किया गया है। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस व भूतल परिवहन मंत्री नितीन गडकरी के मार्गदर्शन में इस परिषद में विकास कार्यों की जानकारी दी जा रही है।

परिषद में सभी दल से जुड़े महापौरों को आमंत्रित किया गया है। युवक कांग्रेस के कार्यकर्ताओं का कहना है कि महापौर परिषद केवल दिखावा है। विकास मामले में पिछड़ने को सरकार छिपाने का प्रयास कर रही है।  मनपा द्वारा संचालित नागपुर ग्रीन बस पूरी तरह से बंद हो गई है।  चौबीस घंटे पानी देने का वादा झूठा साबित हो रहा है। मनपा में नियुक्तियां बंद है। कई ठेकेदारो का पैसा बकाया है। आम जनता को  कई परेशानियों का सामना करना पड़ रहा हैं।   इस आन्दोलन का नेतृत्व प्रदेश सचिव अजीत सिंह व उपाध्यक्ष धीरज पांडे ने किया।  दिनेश यादव,  नीलेश खोरगडे, प्रणित जांभुले, सतीश पाली, आनन्द तिवारी, राम यादव, आयुष हिरणवार, प्रवीण सहारे, गौतम अंबादे, राकेश इखार शामिल थे।

निशाने पर महापौर
प्रदर्शनकारियों के निशाने पर महापौर नंदा जिचकार थी। कार्यकर्ताओं का कहना है कि महापौर सत्ता पक्ष के कुछ नेताओं के इशारे पर केवल सत्ता के दाेहन का काम कर  रही है। हाल ही में महापौर अपने पुत्र का पीए बनाकर विदेश यात्रा पर लेकर गई थी। तब युवक कांग्रेस ने महापौर के विरोध में भीख मांगों प्रदर्शन किया था। विदेश से लौटने के बाद महापौर ने सफाई दी। उन्होंने कहा कि पुत्र का पीए दर्शाकर उन्होंने कोई गलत काम नहीं किया है। महापौर के बचाव पर भूतल परिवहन मंत्री गडकरी भी सामने आए थे। उसके बाद मामला शांत हुआ। युवक कांग्रेस का आरोप है कि मनपा की सत्ता में 3 से 4 लोग मनमानी निर्णय ले रहे हैं। महापौर परिषद का आयोजन भी मनमर्जी से किया जा रहा है।