comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

19 अक्टूबर को लाॅन्च होगी नई Honda CR-V, जानें खूबियां  

September 18th, 2018 17:38 IST

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। जापानी कार निर्माता कंपनी होण्डा अपनी 5th जनरेशन SUV कार CR-V को आगामी माह में 9 अक्टूबर को लाॅन्च करने जा रही है। बड़ी SUV कार के शौकीनों के लिए नई CR-V खास होगी। इस कार में पहले की अपेक्षा काफी हद तक बदलाव किया गया है। आकर्षक डिजाइन के साथ इसकी लंबाई, चौड़ाई और ऊंचाई को काफी बढ़ाया गया है। वहीं इंटीरियर में काफी बदलाव देखने को मिलेगा। इसमें पहले के मुकाबले नए फीचर्स मिलेंगे। इस SUV में पेट्रोल और डीजल इंजन दो विकल्प दिए गए हैं। हालांकि 7 सीटर का आॅपशन सिर्फ डीजन वर्जन में होगा। बात करें माइलेज की तो इसका पेट्रोल वर्जन 14 KM/L और डीजल 19 KM/L का माइलेज देने में सक्षम है। इसकी कीमत 30 से 35 लाख रुपए तक आंकी जा रही है। नई CR-V में और क्या है खास, आइए जानते हैं:—

इंजन
इसमें 2.0 लीटर का पेट्रोल इंजन दिया गया है। यह इंजन 154 PS पावर के साथ 192 NM का टाॅर्क जेनरेट करेगा। यह इंजन 14 KM/L का माइलेज देगा। वहीं बात करें डीजल वर्जन की तो इसमें 1.6 लीटर का डीजल इंजन दिया गया है। यह 120 PS पावर और 300 NM का टाॅर्क जेनरेट करेगा। इसमें टू व्हील ड्राइव के साथ ऑल व्हील ड्राइव का विकल्प मिलेगा। डीजल इंजन 19 KM/L तक का माइलेज देने में सक्षम हैं। दोनों इंजन 9 स्पीड आॅटोमैटिक गियरबाॅक्स से लैस हैं।

फीचर्स 
इसके डैशबोर्ड पर कई नए फीचर्स दिए गए हैं। इसमें 7 इंच का इंफोटेंनमेंट सिस्टम डिस्प्ले दिया गया है, जो एप्पल कार प्ले और एंड्रॉयड ऑटो को सपोर्ट करता है। इसमें इलेक्ट्रिक हैंड ब्रेक और इलेक्ट्रिक पैनोरमिक सनरूफ दी गई है।

पहले की अपेक्षा बड़ी
नई Honda CR-V पहले से अधिक लंबी, चौड़ी और ऊंची है। इसकी लंबाई को 4545 mm से बढ़ाकर 4592 mm तक किया गया है, जो 47 mm अधिक है। वहीं चौड़ाई 1820 mm से बढ़ाकर 1855 mm कर दी गई है, यह 35 mm ज्यादा है। इसमें ऊंचाई 1685 mm से बढ़ाकर 1689 mm कर दी गई है, जो 4 mm अधिक है। इसके अलावा इस कार का व्हीलबेस भी 2620 mm से बढ़ाकर 2660 mm कर दिया गया है, पहले की अपेक्षा यह 40 mm अधिक है।

5 और 7 सीट का विकल्प
नई CR-V के पेट्रोल वेरिएंट में 5 सीटर और डीजल इंजन में 7 सीटर का आॅप्शन दिया गया है।

इनसे मुकाबला
नई Honda CR-V का मुकाबला Jeep Compass, Hundai Tucson, Toyota Fortuner, Ford Endeavour, isuzu mu x जैसी SUV से होगा। 

कमेंट करें
JK7DF
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।