comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

SUV: Tata Nexon का XZ Plus (S) वेरिएंट, जानें कीमत और खासियत

SUV: Tata Nexon का XZ Plus (S) वेरिएंट, जानें कीमत और खासियत

हाईलाइट

  • यह एसयूवी पेट्रोल और डीजल इंजन में उपलब्ध है
  • पेट्रोल वेरिएंट की कीमत 10.10 लाख रुपए है
  • डीजल वेरिएंट की कीमत 11.60 लाख रुपए है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। देश में इन दिनों कोरोनावायरस के चलते लॉकडाउन की स्थिति है। ऐसे में कई कंपनियों ने अपने प्रोडक्ट को बेचने और लॉन्च के लिए ऑनलाइन को चुना है। देश की सबसे बड़ी कंपनी Tata Motors (टाटा मोटर्स) ने भी हाल ही में अपने वाहनों को ऑनलाइन उपलब्ध कराया है। वहीं अब कंपनी ने अपनी पॉपुलर कॉम्पैक्ट एसयूवी Nexon XZ+ S (नेक्सॅन एक्सजेड प्लस) को चुपचाप लॉन्च कर दिया है। 

नई Tata Nexon XZ+ (S) सनरूफ के साथ लॉन्च की गई है, इसे XZ+ (O) के आधार पर बनाया गया है। यह एसयूवी पेट्रोल और डीजल दोनों इंजन के साथ उपलब्ध है। आइए जानते हैं इसकी खासियत और कीमत के बारे में... 

नए अवतार में आएगी BS6 Honda Jazz, वेबसाइट पर हुई टीज

कीमत 
बात करें कीमत की तो इसके पेट्रोल वेरिएंट की कीमत 10.10 लाख रुपए रखी गई है। वहीं इसके डीजल वेरिएंट की कीमत 11.60 लाख रुपए है। XZ+ (S) AMT की कीमत 20,000 रुपए अधिक है। वहीं, डीजल वेरिएंट में भी डुअल-टोन के लिए 20,000 रुपए अधिक चुकाना होंगे।

इंजन और पावर
Tata Nexon में एक 1.2 लीटर टर्बोचार्ज्ड Revotron पेट्रोल इंजन दिया गया है। यह इंजन 120 PS की पावर और 170 Nm का टॉर्क जनरेट करता है। ये इंजन BS6 मानकों के अनुरूप हैं। वहीं दूसरा 1.5 लीटर टर्बो Revotorq डीजल इंजन है। यह इंजन 110 PS की पावर और 260 Nm का टॉर्क जनरेट करता है। दोनों ही इंजन 6-स्पीड मैनुअल और 6-स्पीड AMT ट्रांसमिशन से लैस हैं। 

नई Honda City को क्रैश टेस्ट में मिली 5-स्टार रेटिंग

फीचर्स
फीचर्स की बात करें तो इस कॉम्पैक्ट एसयूवी में सनरूफ फीचर खास है। इसके अलावा इसमें रिमोट व्हीकल कंट्रोल, लाइव व्हीकल डायग्नोस्टिक, जियो-फेंसिंग, वॉलेट मोड, ट्रिप एनालिटिक्स और iRA एप्लिकेशन पैकेज के तौर पर दी हैं। 

इनसे मुकाबला
Tata Nexon XZ+ (S) का मुकाबला Maruti Suzuki Vitara Brezza (मारुति सुजुकी विटारा ब्रेजा), Hyundai Venue (हुंडई वेन्यू), Ford EcoSport (फोर्ड ईकोस्पोर्ट), Mahindra XUV300 (महिंद्रा एक्सयूवी300)  और Honda WR-V (होंडा डब्ल्यूआर-वी) से है। 

कमेंट करें
oCY5w
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।