comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

TIME मैगजीन की कवर पर आने वाली पहली इंडियन एक्ट्रेस परवीन बॉबी, 3 दिन तक घर में सड़ती रही थी लाश

TIME मैगजीन की कवर पर आने वाली पहली इंडियन एक्ट्रेस परवीन बॉबी, 3 दिन तक घर में सड़ती रही थी लाश

डिजिटल डेस्क,मुंबई। 70 के दशक में महिलाओं का हिंदी सिनेमा तक पहुंच पाना आसान नहीं था। उस वक्त गुजरात के जूनागढ़ से एक लड़की बॉलीवुड में आई और अपनी एक्टिंग का सभी को दीवाना बना दिया। हम बात कर रहे हैं, परवीन बॉबी की। जो अपने समय की सबसे महंगी एक्ट्रेसेज में से एक थीं। सिनेमा की दुनिया में अभिनेत्री ने जितनी चमक हासिल की थी, उनकी मौत उतनी ही गुमनामी में हुई।

परवीन की मौत 20 जनवरी, 2005 को हो गई थी, लेकिन उनकी बॉडी को 22 जनवरी को उनके फ़्लैट से निकाला गया। परवीन बाबी ने आत्महत्या की थी या उनकी मौत हुई थी, ये आज तक कोई नहीं जान पाया। ये रहस्य अब तक उस फ्लैट में दफन हैं। 

Unravelling life and times of Parveen Babi - INDIA New England News

Time Magzine में मिली थी जगह

परवीन बॉबी टाइम मैगजीन के कवर पेज पर आने वाली पहली भारतीय महिला फिल्म स्टार थीं। परवीन को साल 1976 में महज 27 साल की उम्र में टाइम मैगजीन ने अपने कवर पर जगह दी। तब तक उनकी त्रिमूर्ति, मजबूर, धुएं की लकीर, 36 घंटे, दीवार, काला सोना, भंवर जैसी फिल्में आ चुकी थीं। परवीन कम समय में ही हिंदी फिल्म इंडस्ट्री की टॉप एक्ट्रेसेस में शुमार हो गई थीं।

Remembering Parveen Babi: First Bollywood star to appear on 'Time' magazine- The New Indian Express

परवीन बॉबी का फिल्मी करियर 18 साल का रहा। मॉडलिंग से 1972 में अपने करियर की शुरुआत करने वाली परवीन बाबी ने 1973 में फिल्म 'चरित्र' से बॉलीवुड इंडस्ट्री में कदम रखा था। लेकिन एक्ट्रेस को सबसे बड़ा ब्रेक मिला फिल्म 'दीवार' से। साल 1975 में रिलीज हुई ये फिल्म ब्लॉकबस्टर साबित हुई और परबीन की किस्मत ही पलट दी।

Remembering Parveen Babi: First Bollywood star to appear on 'Time' magazine- The New Indian Express

अपना लिया था क्रिश्चियन धर्म

अभिनेत्री ने क्रिश्चियन धर्म को अपना लिया था और वो चाहती थीं कि उनका अंतिम संस्कार इसी धर्म के अनुसार किया जाए, लेकिन एक्ट्रेस की मौत के बाद उनके रिश्तेदारों ने उनका दाह संस्कार मुस्लिम धर्म के अनुसार ही किया। 

Parveen Babi put sex-appeal in 1970s Bollywood, but constantly fought mental health issues

कमेंट करें
x0IYT
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।