comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

निवेशकों के बीच हिट साबित हुआ IRCTC का IPO, 112 गुना ज्यादा सब्सक्राइब

निवेशकों के बीच हिट साबित हुआ IRCTC का IPO, 112 गुना ज्यादा सब्सक्राइब

हाईलाइट

  • IRCTC का IPO निवेशकों के बीच बड़ा हिट साबित हुआ
  • ये 111.91 गुना ज्यादा सब्सक्राइब हुआ है
  • ये IPO सोमवार 30 सितंबर को खुला था गुरुवार को बंद हुआ

डिजिटल डेस्क, मुंबई। इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (IRCTC) का IPO निवेशकों के बीच बड़ा हिट साबित हुआ। ये 111.91 गुना ज्यादा सब्सक्राइब हुआ है। ये IPO सोमवार 30 सितंबर को खुला था और इसे सब्सक्राइब करने का गुरुवार को अंतिम दिन था। इस आईपीओ में कंपनी ने दो करोड़ शेयर बिक्री के लिए रखे थे। एक्सचेंजों के पास उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार कंपनी को बोली 225 करोड़ शेयरों के लिए मिली है। इस आईपीओ से कंपनी करीब 645 करोड़ रुपए जुटाएगी।

मर्चेंट बैंकिंग के सूत्रों के अनुसार योग्य संस्थागत निवेशकों (क्यूआईबी) के लिए आरक्षित शेयरों की श्रेणी में 108.79 गुना, गैर-संस्थागत निवेशकों (एनआईआई) श्रेणी में 354.52 गुना और रिटेल निवेशक श्रेणी में 14.65 गुना बोली मिली। इस बीच, डिपार्टमेंट ऑफ इन्वेस्टमेंट एंड पब्लिक ऐसेट मैनेजमेंट (DIPAM) ने एक ट्वीट में कहा, 'आईआरसीटीसी आईपीओ को निवेशकों की सभी श्रेणियों से जबरदस्त रिस्पॉन्स मिला है, पब्लिक इश्यू 111 गुना ज्यादा सब्सक्राइब किया गया है। आईपीओ के जरिये सरकार ने कंपनी में अपनी 12.6 फीसदी हिस्सेदार बेची है जिससे 645 करोड़ रुपए जुटने का अनुमान है।'

कंपनी के कर्मचारी और खुदरा निवेशकों को फाइनल ऑफर प्राइज पर 10 प्रतिशत की छूट शेयरों पर मिलेगी। मंगलवार को बोली लगाने के दूसरे दिन तक आईपीओ को 3.25 गुना सब्सक्राइब किया गया था। 'महात्मा गांधी जयंती' के कारण बुधवार को इक्विटी बाजार बंद रहे। इस आईपीओ में प्रति शेयर 315-320 रुपए का प्राइस रेंज रखा गया है। आईपीओ में कंपनी ने 10 रुपए की फेस वेल्यू के साथ दो करोड़ शेयर बिक्री के लिए रखे थे। इनमें से 1,60,000 इक्विटी शेयर पात्र कर्मचारियों के लिए आरक्षित हैं। इस ऑफर को यस सिक्योरिटीज (इंडिया), एसबीआई कैपिटल मार्केट्स और आईडीबीआई कैपिटल मार्केट्स एंड सिक्योरिटीज मैनेज कर रही है।

IRCTC ही एकमात्र कंपनी है जो रेलवे में केटरिंग सर्विस, ऑनलाइन टिकट, स्टेशनों और ट्रेनों में पैकेज्ड पेयजल उपलब्ध कराने के लिए अधिकृत है। कुल मिलाकर, IRCTC सबसे अच्छा PSU और पिछले दो वित्त वर्षों में ओवरऑल सब्सक्रिप्शन के मामले में सबसे सफल IPO रहा है। इस आईपीओ के बाद अब रेलवे के टूरिज्म और केटरिंग सब्सिडरी में सरकार की हिस्सेदारी घटकर 87.40 प्रतिशत रह जाएगी। ऐसे में अब उम्मीद यही की जा रही है कि इन आईपीओ में निवेश करने वाले लोगों को अच्छा खासा रिटर्न मिलेगा।

कमेंट करें
41tkB
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।