• Dainik Bhaskar Hindi
  • Business
  • Kisan Railways of South Central Railway transported 1.77 lakh tonnes of agricultural products and 7.77 crore liters of milk

रेल नेटवर्क: दक्षिण मध्य रेलवे की किसान रेलों ने 1.77 लाख टन कृषि उत्पादों और 7.77 करोड़ लीटर दूध की ढुलाई की

January 8th, 2022

हाईलाइट

  • तीसरी लाइन को लेकर 82 किलोमीटर का काम पूरा किया गया

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। दक्षिण मध्य रेलवे से 546 किसान रेलों ने 1.77 लाख टन कृषि उत्पादों की ढुलाई की। साथ ही दूध दुरंतो ने रेनीगुंटा से हजरत निजामुद्दीन तक साल 20121 में लगभग 7.77 करोड़ लीटर दूध की ढुलाई की। साल 2021 के दौरान दक्षिण मध्य रेलवे के रेल नेटवर्क को मजबूत बनाने के लिए कुल 227.5 किलोमीटर ट्रैक का निर्माण किया गया है। इसके अलावा, निर्बाध ट्रेन आवाजाही सुविधा प्रदान करने के लिए, 657 किलोमीटर रेलवे लाइनों का विद्युतीकरण किया गया है। रेलवे के अनुसार दक्षिण मध्य रेलवे के रेल नेटवर्क 25 किलोमीटर का नई लाइनों का निर्माण किया गया है।

इसके साथ ही 120.5 किलोमीटर डबल लाइन का कार्य पूरा किया गया। वहीं तीसरी लाइन को लेकर 82 किलोमीटर का काम पूरा किया गया।  प्रमुख जंक्शनों पर भीड़भाड़ कम करने और मार्ग में अवरोधों के बिना सुरक्षित, आरामदायक रेल यात्रा प्रदान करने की ²ष्टि से, जोन ने नवीनतम तकनीकी प्रगति का उपयोग करके विभिन्न क्षमता निर्माण कार्य किए हैं, जो ट्रेनों के चालन समय को कम करके रेलवे के प्रवाह क्षमता को बढ़ाने में मदद करेंगे।

ट्रेन कोलिजन अवॉइडेंस सिस्टम (टीसीएएस) को इस जोन के 92 स्थानों को कवर करते हुए 948 किलोमीटर तक बढ़ा दिया गया है। इसके के साथ दूध दुरंतो जो एक दूध विशेष ट्रेन है, जिसे इस जोन द्वारा राष्ट्रीय राजधानी में दूध की आपूर्ति को पूरा करने के लिए आंध्र प्रदेश के रेनीगुंटा से लॉकडाउन अवधि के दौरान शुरू किया गया था। वर्ष 2021 के दौरान, लगभग 7.77 करोड़ लीटर दूध रेनीगुंटा से हजरत निजामुद्दीन तक पहुंचाया गया, जिससे कुल दूध की ढुलाई 13 करोड़ लीटर से अधिक हो गई।

वहीं किसानों की सहायता के लिए और कृषक समुदाय की आय को बढ़ावा देने के लिए, भारत सरकार ने बेहतर मूल्य प्राप्त करने के लिए रियायती टैरिफ (नियमित टैरिफ का 50 फीसदी) पर कृषि उत्पादों को राष्ट्रीय बाजारों में परिवहन के लिए किसान रेल अवधारणा की शुरूआत की थी। जिसके बाद इस जोन ने किसान रेल चलाने पर विशेष बल दिया है। पिछले एक साल में जोन के विभिन्न स्टेशनों से कुल 1.77 लाख टन कृषि उत्पादों की 546 किसान रेलों के माध्यम से ढुलाई हुई। दक्षिण मध्य रेलवे अपने अधिकार क्षेत्र- तेलंगाना, आंध्र प्रदेश और महाराष्ट्र तीन राज्यों से किसान रेल संचालित करता है।

आईएएनएस