दैनिक भास्कर हिंदी: ऑनलाइन शॉपिंग में 115 प्रतिशत की वार्षिक वृद्धि की उम्मीद : रिपोर्ट

June 24th, 2018

हाईलाइट

  • (ASSOCHAM) और रीसर्जंट के जॉइंट स्टडी में इस साल ऑनलाइन शॉपिंग में 115 प्रतिशत की वार्षिक वृद्धि की उम्मीद है।
  • 120 मिलियन से ज्यादा भारतीय उपभोक्ताओं की ऑनलाइन शॉपिंग करने की उम्मीद है।
  • वॉलमार्ट ने भी फ्लिपकार्ट की हिस्सेदारी खरीदकर भारत के ऑनलाइन बाजार में कदम रखा है।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। एसोसिएटेड चैंम्बर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ऑफ इंडिया (ASSOCHAM) और रीसर्जंट के जॉइंट स्टडी में इस साल ऑनलाइन शॉपिंग में 115 प्रतिशत की वार्षिक वृद्धि की उम्मीद है। इस अध्ययन में कहा गया है कि 120 मिलियन से ज्यादा भारतीय उपभोक्ताओं की ऑनलाइन शॉपिंग करने की उम्मीद है। बता दें कि ऑनलाइन शॉपिंग की ऐसी ही संभावनाओं को देखते हुए वॉलमार्ट ने भी फ्लिपकार्ट की हिस्सेदारी खरीदकर भारत के ऑनलाइन बाजार में कदम रखा है। 

विकास की काफी संभावनाएं
इसकी पुष्टि करते हुए ASSOCHAM के महासचिव डी.एस रावत ने कहा कि अभी यह शुरुआत है और साल भर में इसमें विकास की काफी संभावनाएं हैं। लॉजिस्टिक में आए सुधार और डिलीवरी चैनलों में सुधार की वजह से ऑनलाइन शॉपिंग में वृद्धि की उम्मीद है। उन्होंने आगे कहा कि इस क्षेत्र में काफी ज्यादा विदेशी निवेश हो रहा है। यह अरबों में निवेश का कारोबार बन गया है।

108 मिलियन लोगों ने की ऑनलाइन शॉपिंग
इस अध्ययन में यह भी कहा गया है कि पिछले साल 108 मिलियन उपभोक्ताओं ने ऑनलाइन शॉपिंग की है। मोबाइल फोन ऑनलाइन शॉपिंग का सबसे पसंदीदा माध्यम रहा। ऑनलाइन शॉपिंग में इलेक्ट्रॉनिक्स (33 प्रतिशत) सामानों की तुलना में कपड़ों और एक्सेसरीज़ (54 प्रतिशत), सौंदर्य सामान (43 प्रतिशत) जैसी श्रेणियों की अधिक बिक्री हुई है।

कैश ऑन डिलीवरी सबसे पसंदीदा माध्यम
अध्ययन में कहा गया है कि ऑनलाइन टिकट खरीददारों ने डेबिट कार्ड (23 प्रतिशत), क्रेडिट कार्ड (17 प्रतिशत) और कैश ऑन डिलीवरी (58 प्रतिशत) पर भरोसा दिखाया। नियमित इंटरनेट यूज़र्स के लिए - कैश ऑन डिलीवरी भुगतान का सबसे पसंदीदा तरीका (74 प्रतिशत) रहा, वहीं डेबिट कार्ड (18 प्रतिशत) और क्रेडिट कार्ड (5 प्रतिशत) ने भी यूज़र्स को लुभाया। ऑनलाइन खरीददारों ने कैश बैक गारंटी को सबसे बेहतरीन बेनिफिट बताया। इस अध्ययन में यह भी पता चला है कि भारत में स्मार्टफोन पर शॉपिंग करने वाले लोगों की संख्या में भी वृद्धि हुई है, जिसमें कुछ छोटे शहर भी शामिल हैं।