comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

एयरसेल-मैक्सिस केस: पी चिदंबरम को मिली अग्रिम जमानत, 7 अगस्‍त तक गिरफ्तारी पर रोक

July 23rd, 2018 17:12 IST
एयरसेल-मैक्सिस केस: पी चिदंबरम को मिली अग्रिम जमानत, 7 अगस्‍त तक गिरफ्तारी पर रोक

हाईलाइट

  • एयरसेल-मैक्सिस मामले में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को अग्रिम जमानत।
  • दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने 7 अगस्‍त तक कार्ति चिदंबरम को गिरफ्तार न करने का आदेश दिया है।
  • एयरसेल-मैक्सिस मामले में सीबीआई ने 19 जुलाई (गुरुवार) को फ्रेश चार्जशीट दायर की थी।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। एयरसेल-मैक्सिस मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने सोमवार को पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को अग्रिम जमानत दे दी। विशेष सीबीआई न्यायाधीश ओपी सैनी ने चिदंबरम की ओर से दी गयी अर्जी पर सुनवाई करते हुए उनकी अग्रिम जमानत को मंजूरी दी। दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने 7 अगस्‍त तक कार्ति चिदंबरम को गिरफ्तार न करने का आदेश दिया है।

19 जुलाई को CBI ने दायर की थी चार्जशीट
एयरसेल-मैक्सिस मामले में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम उनके बेटे कार्ति सहित 18 आरोपियों के खिलाफ सीबीआई ने 19 जुलाई (गुरुवार) को फ्रेश चार्जशीट दायर की थी। सीबीआई ने 18 लोगों को इस मामले में आरोपी बनाया है और इनके खिलाफ आईपीसी की धारा 120बी और पीसी एक्ट की धारा 7,12 13(2) के तहत मामला दर्ज किया है। विशेष सीबीआई न्यायाधीश ओपी सैनी की पटियाला हाउस कोर्ट में ये चार्जशीट दायर की गई थी। पटियाला कोर्ट 31 जुलाई को इस मामले की सुनवाई करेगी।

सीबीआई पर दबाव बनाया गया
सीबीआई ने अपनी नई चार्जशीट जिन 18 लोगों के खिलाफ दाखिल की थी उसमें कार्यरत और रिटायर्ड सरकारी अधिकारियों के भी नाम है। सीबीआई ने चार्जशीट में कहा था कि फॉरेन इनवेस्टमेंट प्रमोशन बोर्ड क्लियरेंस से जुड़े पैसों के दो बार लेन-देन किए जाने की बात सामने आई है। चार्जशीट दाखिल किए जाने के बाद पी चिदंबरम ने ट्वीट करते हुए कहा था, चार्जशीट फाइल करने के लिए सीबीआई पर दबाव बनाया गया। यह मामला अब कोर्ट में है और कोर्ट में ही इस मुद्दे को उठाया जाएगा। इस बारे में मैं सार्वजनिक रूप से कुछ नहीं कहूंगा।

क्या है एयरसेल-मैक्सिस डील?
पी. चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम को साल 2006 में एयरसेल-मैक्सिस डील के लिए विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड (एफआईपीबी) की मंजूरी मिली थी। यह मंजूरी कार्ति चिदंबरम ने कैसे हासिल की, इसी बात की जांच CBI और ED कर रहे हैं। इसमें कार्ति के साथ-साथ पी. चिदंबरम को भी आरोपों के घेरे में लिया गया है। पी. चिदंबरम पर आरोप है कि एयरसेल-मैक्सिस डील को उन्होंने कैबिनेट कमेटी की मंजूरी के बगैर ही हरी झंडी दे दी थी। यह पूरी डील करीब 3500 करोड़ रुपए की थी। अपने बेटे कार्ति चिदंबरम को लाभ पहुंचाने के उद्देश्य से चिदंबरम ने एफआईपीबी की फाइल को मंजूर किया था।    

कमेंट करें
JAzsP