दैनिक भास्कर हिंदी: Fuel Price: पेट्रोल की कीमत में आज फिर लगी आग, ​डीजल के दाम स्थिर

July 2nd, 2021

हाईलाइट

  • पेट्रोल की कीमत में 40 पैसे प्रति लीटर का इजाफा
  • डीजल की कीमतों में नहीं किया गया कोई बदलाव
  • आगामी दिनों में ईंधन के दाम में जारी रहेगी बढ़ोतरी

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों का असर सीधे तौर पर घरेलू बाजार में देखने को मिलता है। ऐसे में सरकारी तेल कंपनियां कभी पेट्रोल-डीजल (Petrol- Diesel) की कीमतें बढ़ा देती हैं, कभी घटाती हैं और कभी स्थिर भी रखती हैं। लेकिन बात करें आज (02 जुलाई, शुक्रवार) की तो पेट्रोल की कीमत में एक बार फिर से आग लगी है। लेकिन डीजल के भाव में राहत मिली है। भारतीय तेल विपणन कंपनियों (IOC, HPCL & BPCL) ने पेट्रोल के रेट 40 पैसे प्रति लीटर तक बढ़ा दिए हैं।

इससे पहले मंगलवार (29 जून 2021) को पेट्रोल की कीमत में 35 पैसे प्रति लीटर तक की बढ़ोतरी की गई थी। वहीं डीजल के दाम में 28 पैसे प्रति लीटर तक की वृद्धि की गई थी। जबकि दो दिनों से पेट्रोल-डीजल दोनों के ही भाव में कोई बदलाव नहीं किया गया था। फिलहाल जानते हैं इंडियन ऑयल की वेबसाइट के अनुसार आज के दाम...

Cryptocurrency Trading की सोच रहे हैं तो इन बातों का रखें ध्यान 

महानगर

पेट्रोल

डीजल

दिल्ली 

99.16 रुपए प्रति लीटर

89.18 रुपए प्रति लीटर

मुंबई

105.24 रुपए प्रति लीटर

96.72 रुपए प्रति लीटर

कोलकाता 

99.04 रुपए प्रति लीटर

92.03 रुपए प्रति लीटर

चैन्नई

100.13 रुपए प्रति लीटर

93.72 रुपए प्रति लीटर

सरकार के अनुसार ईंधन में महंगाई की वजह 
जानकारों का मानना है कि आगामी दिनों में भी पेट्रोल-डीजल के दाम में बढ़ोतरी जारी रहेगी। क्यों कि सरकार पहले की अंतर्राष्ट्रीय कच्चे तेल की कीमतों का हवाला देकर कोई भी हस्तक्षेप करने से मना कर चुकी है। बीते दिनों भी केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद प्रधान ने कहा था कि कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी के चलते पेट्रोल-डीजल के रेट बढ़ रहे हैं। हालांकि ये बात अलग है कि विधानसभा चुनाव के दौरान मार्च और अप्रैल में सरकारी तेल कंपनियों ने कच्चा तेल महंगा होने के बाद भी पेट्रोल-डीजल की कीमतें नहीं बढ़ाई थीं।

कोविड काल में रिलायंस ने दिए 75 हजार नए रोजगार 

विधानसभा चुनाव के दौरान नहीं बढ़ाई गई थीं कीमतें
आपको बता दें कि 26 फरवरी को पांच राज्यों में चुनाव की अधिसूचना जारी की गई थी। इसके एक दिन बाद डीजल के दाम में बढ़ोतरी देखने को मिली थी। लेकिन इसके बाद दो महीने से भी अधिक समय तक पेट्रोल-डीजल के दाम में कोई बढ़ोतरी नहीं की गई। बल्कि कच्चे तेल में तेजी के बावजूद देश में कीमतें कई बार घटाई गईं। वहीं चुनाव बीतने के बाद बीते 4 मई से अब तक रूक-रूक कर लगातार ईंधन की कीमतें बढ़ रही हैं।