सीधी उड़ान: यूक्रेन में फंसे भारतीयों को वापस लाने के लिए विशेष उड़ानें संचालित करेगी टाटा के नेतृत्व वाली एयर इंडिया

February 19th, 2022

हाईलाइट

  • भारत और यूक्रेन के बीच एक एयर बबल समझौता है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। रूस और यूक्रेन के बीच तनाव लगातार बना हुआ है। इस बीच टाटा समूह की अगुवाई वाली एयर इंडिया पूर्वी यूरोपीय देश यूक्रेन में फंसे भारतीयों को वापस लाने के लिए कीव के लिए तीन सीधी उड़ानें संचालित करेगी। एयर इंडिया अपने बोइंग 787 ड्रीमलाइनर विमान के साथ दिल्ली और कीव के बीच तीन उड़ानें संचालित करेगी। भारत से बॉरिस्पिल अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के लिए उड़ानें 22, 24 और 26 फरवरी को संचालित की जाएंगी।

इससे पहले केंद्र ने गुरुवार को भारत और यूक्रेन के बीच उड़ानों और सीटों की संख्या पर लगाया गया प्रतिबंध हटा दिया था। यह फैसला जाहिर तौर पर रूस के साथ चल रहे तनाव के कारण पूर्वी यूरोपीय राष्ट्र में फंसे छात्रों और पेशेवरों की वापसी की सुविधा के लिए लिया गया था।

मंत्रालय ने एक बयान में कहा, नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने एयर बबल व्यवस्था के तहत भारत और यूक्रेन के बीच उड़ानों और सीटों की संख्या पर प्रतिबंध हटा दिया है। इस प्रकार, चार्टर उड़ानों सहित कितनी भी उड़ानें दोनों देशों के बीच संचालित हो सकती हैं। बयान में कहा गया है, भारतीय एयरलाइंस को मांग में वृद्धि के कारण उड़ानें बढ़ाने के लिए सूचित किया गया है। नागरिक उड्डयन मंत्रालय विदेश मंत्रालय के साथ समन्वय में सुविधा प्रदान कर रहा है।

केंद्र ने एक परामर्श के माध्यम से यूक्रेन में भारतीयों को देश छोड़ने के लिए कहा था, लेकिन कथित तौर पर 20 फरवरी से पहले कोई उड़ान उपलब्ध नहीं थी। यूक्रेन में मौजूदा हालात को देखते हुए विदेश मंत्रालय में एक कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है ताकि फंसे हुए भारतीयों को सूचना और सहायता मुहैया कराई जा सके।

भारत और यूक्रेन के बीच एक एयर बबल समझौता है जिसके तहत प्रति सप्ताह एक निश्चित संख्या में उड़ानें संचालित हो सकती हैं। बबल समझौते पर तब हस्ताक्षर किए गए थे, जब कोविड-19 महामारी के मद्देनजर अंतर्राष्ट्रीय यात्रा को निलंबित कर दिया गया था।

आईएएनएस