• Dainik Bhaskar Hindi
  • City
  • Akola city has been backward in the ranking, central team returned after doing a cleanliness survey

अकोला : शहर रैकिंग में रहा है फिसड्‌डी, स्वच्छता सर्वेक्षण कर लौटी केंद्रीय टीम- सुधरने की उम्मीद

April 14th, 2022

डिजिटल डेस्क, अकोला। स्वच्छ सर्वेक्षण 2022 के तहत अकोला मनपा क्षेत्र में केंद्रीय टीम का आगमन हुआ था। टीम ने सर्वेक्षण किया और लौट गई। सर्वेक्षण को लेकर मनपा की ओर से तैयारियां की गई थी, जिससे रैंकिंग में सुधार की उम्मीद है। किंतु अकोला शहर के अधिकतर परिसरों में फिर से कूड़ों के ढेर दिखाई देने लगे हैं। वहीं स्वच्छता को लेकर नागरिक भी अधिक जागृक नहीं है। इस कारण अकोला में स्वच्छता के हालात सुधरते नजर नहीं आ रहे है। लिहाजा सर्वेक्षण के बाद रैंकिंग का सबको इंतजार है। 

देश का हर शहर स्वच्छ एवं सुंदर बने इसलिए केंद्र सरकार व राज्य सरकार विविध योजनाओं के तहत पानी तरह पैसा खर्च कर रही है। अकोला महानगरपालिका को भी स्वच्छता के लिए करोड़ों रूपए मिले, लेकिन अकोला शहर की स्थिति सुधरती दिखाई नहीं दे रही है। स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 के मुकाबले 2021 में अकोला की रैकिंग 107 पायदान नीचे आई। पिछले वर्ष देश में 173 वीं रैंकिंग मिली थी। सन 2020 में 66 वीं रैकिंग मिली थी। वहीं सन 2019 में 217 वीं रैंकिंग थी। अब स्वच्छता सर्वेक्षण 2022 के तहत अप्रैल माह में केंद्रीय टीम द्वारा सर्वेक्षण किया गया। संभवत: सर्वेक्षण जनवरी या फरवरी माह में होता है, लेकिन कोरोना संकट की वजह से समय पर सर्वेक्षण नहीं हो पाया।

मार्च माह में भी केंद्रीय टीम के आगमन को लेकर मनपा की ओर से तैयारियां की गई। अंतत: 3 सदस्यीय टीम ने शहर के अलग-अलग परिसरों का निरीक्षण किया और आवश्यक निकषों की पड़ताल की। इस दौरान स्वच्छता को लेकर मनपा का आरोग्य विभाग अधिक एक्टिव रहा। अब फिर से सड़कों के किनारे कूड़े के ढेर नजर आने लगे हैं। सर्वेक्षण के बाद रैंकिंग घोषित की जाएगी, लेकिन पिछले वर्ष की रैंकिंग जारी करने में काफी विलंब हुआ था। मिनिस्ट्री ऑफ हाऊसिंग एण्ड अर्बन अफेअर्स गवर्नमेंट ऑफ इंडिया की ओर से हर साल नेशनल रैंकिंग जारी की जाती है। इस रैंकिंग में अकोला हमेशा फिसड्‌डी रहा है।