दैनिक भास्कर हिंदी: बैतूल: कोरोना वैक्सीन प्रशिक्षण आयोजित

December 22nd, 2020

डिजिटल डेस्क, बैतूल। बैतूल स्वास्थ्य विभाग द्वारा सोमवार को कोरोना वैक्सीन लगाये जाने की प्रारंभिक तैयारियों के संबंध में जी.एन.एम.टी.सी. बैतूल में प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षण में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रदीप कुमार धाकड़ ने विस्तृत जानकारी देते हुये निर्देशित किया कि कोविड वैक्सीन हेतु वृहद कार्ययोजना बनाएं एवं उसको बेहतर प्रकार से अमलीजामा पहनाएं। समन्वय से सभी अधिकारी एवं कर्मचारी कार्य करें तथा शासन की इस योजना को सार्थक करने हेतु एकजुट होकर प्रयास करें। उनके द्वारा टीकाकरण के बाद के दुष्परिणामों (एईएफआई) के प्रबंधन एवं एईएफ आई किट, जिला निगरानी समिति के संबंध में विस्तृत दिशा निर्देश दिये गये। प्रशिक्षण में एसएमओ डॉ. अविनाश कनेरे ने बताया कि यह प्रशिक्षण प्रशिक्षणार्थियों का प्रशिक्षण है, जिनके द्वारा मैदानी स्तर के कर्मचारियों को प्रशिक्षण प्रदाय किया जायेगा। डब्ल्यूएचओ द्वारा 11 मार्च 2020 को घोषित वैश्विक महामारी कोविड-19 के संचरण के प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष मार्ग, बचाव के उपाय, टीकाकरण सत्र की स्थापना एवं संचालन, टीकाकरण स्थल में प्रतीक्षालय कक्ष, टीकाकरण कक्ष एवं अवलोकन कक्ष की स्थापना एवं रखी जाने वाली महत्वपूर्ण सावधानियां, वेटिंग एरिया में कुर्सियों/सीटों के बीच पर्याप्त भौतिक दूरी, प्रवेश द्वार पर हाथ धोनें की सुविधा, बैठने की व्यवस्था में दो गज/छ: फिट की दूरी, एक समय में एक ही व्यक्ति का टीकाकरण कक्ष में प्रवेश, कोविन एप्लीकेशन, ए डी सीरिंज, हब कटर का उपयोग, समान्य ब्राण्ड का टीका, दूसरी खुराक की जानकारी, एवं टीके की प्री-रजिस्टर्ड प्रक्रिया इत्यादि के संबंध में विस्तार से जानकारी दी गई। प्रशिक्षण को जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. अरविन्द कुमार भट्ट एवं जिला नोडल अधिकारी कोरोना डॉ. सौरभ राठौर ने भी संबोधित किया। इस प्रशिक्षण के पश्चात् विकासखंड स्तर पर प्रशिक्षण प्रदाय कर आगामी कार्ययोजना तैयार की जाकर विस्तृत कार्यवाही की जाएगी। प्रशिक्षण में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. धाकड़ सहित जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. आरके धुर्वे, जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. अरविन्द कुमार भट्ट, एसएमओ डब्ल्यूएचओ डॉ. अविनाश कनेरे, जिला कोरोना नोडल अधिकारी डॉ. सौरभ राठौर, जिला स्तरीय राष्ट्रीय कार्यक्रम अधिकारी सहित समस्त खंड चिकित्सा अधिकारी, सेक्टर मेडिकल ऑफिसर, बीईई, बीपीएम, बीसीएम, कोल्ड चेन हेण्डलर एवं डाटा एन्ट्री ऑपरेटर उपस्थित रहे।