दैनिक भास्कर हिंदी: 16 दिनों तक कोरोना संक्रमित माँ का साथ, 2 दिन के बच्चे को इन्फेक्शन नहीं

June 8th, 2020

नवजात के लिए माँ के आँचल से ज्यादा सुरक्षित कुछ और हो ही नहीं सकता। कोविड-19 के मामले में चिकित्सकों ने मेडिकल के पेइंग वार्ड में नवजात और संक्रमित माँ के साथ को खतरनाक बताया। दोनों को अलग-अलग रखने की सलाह दी, लेकिन यहाँ भी जीत ममता की हुई।

डिजिटल डेस्क जबलपुर । अधिकांश का मानना था कि दो दिन का बच्चा माँ के डायरेक्ट कान्टेक्ट में रहने पर संक्रमित होगा। इसकी 90 प्रतिशत से ज्यादा गुंजाइश थी। दूसरी ओर संक्रमित माँ ने भी अपने बच्चे को स्वस्थ रखने के लिए वार्ड में लंबे समय तक पीपीई किट पहनने की तकलीफ सहने के साथ ही उन हिदायतों पर अमल किया जो डॉक्टरों ने उन्हें बताईं थीं। रविवार को मेडिकल और सुखसागर कोविड केयर सेंटर से 11 मरीजों को स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किया गया। इनमें यह माँ-बेटी भी हैं। 
 31 वर्षीय रद्दी चौकी निवासी महिला का 18 मई को एल्गिन अस्पताल में नार्मल प्रसव से बच्चा हुआ। अस्पताल में भर्ती होने के दौरान ही कोरोना संक्रमितों की अधिकता वाले क्षेत्र से होने के कारण उन्हें अलग बनाए गए वार्ड व लेबर-रूम में प्रसव कराने के साथ ही कोरोना सैंपल लिया गया था। 20 को उन्हें छुट्टी दी गई तथा 21 मई को उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। दो दिन के बच्चे के साथ उन्हें मेडिकल के पेइंग वार्ड में बच्चे के साथ अलग रखा गया था, इस दौरान बच्चे को इन्फेक्शन से बचाने महिला को कई हिदायतें दी गईं थीं। 
घर में क्वारंटीन की अंडरटेकिंग 
रविवार को सुपर स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल से 10 दिन की गाइडलाइन पर डिस्चार्ज की गईं अधारताल निवासी एक ही परिवार की दो महिलाओं को अगले सात दिन घर में क्वारंटीन रहना होगा। घर में इसके लिए पर्याप्त जगह होने पर उन्हें अंडरटेकिंग लेने के बाद डिस्चार्ज किया गया। यहाँ से 20 मई को पॉजिटिव आईं पुराना पुल गोहलपुर की 19 साल की विवाहित युवती को भी छुट्टी देकर घर भेजा गया। इनके अलावा सुखसागर कोविड केयर सेंटर से 26 मई को पॉजिटिव आए आरपीएसएफ के कांस्टेबल, मिलौनीगंज निवासी 35 वर्षीय महिला तथा 27 मई को कुंडम के हरदुली तथा रांझी के ज्ञानोदय क्वारंटीन सेंटर से कुंडम के विभिन्न गाँवों के निवासी पाँच प्रवासी मजदूरों को भी डिस्चार्ज किया गया। इस सभी को अगले सात दिन के लिए वहाँ के क्वारंटीन सेंटर में रखा गया है। 
संक्रमित बुजुर्ग वेंटीलेटर पर 
30 मई को पॉजिटिव आए मदार टेकरी हनुमाताल निवासी 75 वर्षीय बुजुर्ग का सुपर स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल में इलाज चल रहा है। उन्हें लंबे समय से डायबिटीज और साँस की बीमारी होने के कारण रिकवरी धीमी हो रही है। दो दिन से वेंटीलेटर सपोर्ट पर हैं, चिकित्सकों के अनुसार उनकी सेहत में मामूली सुधार हो रहा है।