दैनिक भास्कर हिंदी:  छतरपुर में हत्या के मामले में फरार बदमाश धर्मेन्द्र सोनी महोबा में गिरफ्तार

August 3rd, 2020

डिजिटल डेस्क छतरपुर । लगभग एक साल पहले छतरपुर के सटई रोड पर भाजपा युवा मोर्चा नेता दीपक अग्निहोत्री की घर में घुसकर हत्या करने वाले जिले के शातिर बदमाश धर्मेन्द्र सोनी को यूपी के पड़ोसी जिले महोबा की पुलिस ने एक मुठभेड़ में गिरफ्तार कर लिया है। धर्मेन्द्र सोनी पर छतरपुर महोबा, कबरई सहित अन्य स्थानों पर हत्या, लूट जैसे 22 मुकदमे दर्ज हैं। धर्मेन्द्र सोनी को पकडऩे के लिए छतरपुर पुलिस ने 10 हजार एवं महोबा पुलिस ने 20 हजार रुपए का इनाम घोषित कर रखा था। पुलिस ने उक्त आरोपी को चरखारी और महोबा कोतवाली थाना क्षेत्र के समीप ग्राम करहराकला में अवैध हथियारों के साथ गिरफ्तार किया है। 
फायरिंग कर भागने की फिराक में था धर्मेन्द्र : महोबा कोतवाली टीआई अनिल सिंह ने बताया कि एसपी मणिपाल पाटीदार के निर्देशन में महोबा जिले के बदमाशों की धरपकड़ के लिए चलाए जा रहे अभियान के अंतर्गत एक अगस्त की रात करीब साढ़े 10 बजे उन्हें मुखबिर से सूचना मिली थी कि धर्मेन्द्र सोनी चरखारी थाना क्षेत्र के सीमावर्ती इलाके में स्थित करहराकला पहाड़ी के समीप मौजूद है। जब पुलिस ने उसकी घेराबंदी की तो धर्मेन्द्र सोनी पुलिस पर फायर कर भाग खड़ा हुआ, लेकिन पुलिस ने चारों तरफ से घेरकर उसे दबोच लिया। आरोपी के पास से एक देशी पिस्तौल, 5 कारतूस और एक फीबो गाड़ी बरामद की गई है। आरोपी पर धारा 307 एवं अवैध हथियार रखने का मुकदमा भी महोबा कोतवाली में दर्ज किया गया है। पूर्व में भी उसके विरूद्ध महोबा कोतवाली में धारा 195, 323, 120बी, 212, 347 का मुकदमा दर्ज था। इस मामले में गिरफ्तारी के लिए उस पर 20 हजार का इनाम घोषित था। 
छतरपुर में दर्ज हैं 20 मुकदमे : छतरपुर में धर्मेन्द्र सोनी पर वर्ष 2005 से 2019 के बीच लगभग 20 मुकदमे दर्ज किए गए हैं। सभी मामले सिविल लाइन थाने में दर्ज हैं। इन मामलों में साधारण मारपीट से लेकर घर में घुसकर मारपीट, दलितों के साथ मारपीट, हत्या, अवैध हथियार रखने के मामले दर्ज हैं। इसके अलावा कबरई में उसके विरूद्ध एनडीपीएस एक्ट का मुकदमा दर्ज है।
मृतक के भाई को फंसाने के लिए रची थी साजिश
कुछ वर्ष पूर्व छतरपुर निवासी दीपक अग्निहोत्री की हत्या धर्मेन्द्र सोनी, अक्षय सोनी, अंशू सोनी द्वारा की गयी थी। मृतक के भाई सुनील अग्निहोत्री को मोबाइल फोन से प्रेम प्रसंग कर सुभाषनगर बुलवा कर प्रेमिका द्वारा कमरे में ले जाकर यूपी 112 पर बलात्कार की सूचना देकर मप्र के हत्या से संबंधित मृतक दीपक अग्निहोत्री के भाई सुनील अग्नहोत्री के विरूद्ध धारा 376 भादवि पंजीकृत कराया गया था। जो पुलिस विवेचना से गलत पाया गया था। विवेचना से प्रकरण का उजागर हुआ था, जिससे सुनील अग्नहोत्री के प्रार्थना पत्र के आधार पर थाना कोतवाली में धारा 195, 323, 120बी, 212, 347 भादवि बनाम धर्मेन्द्र सोनी आदि के पंजीकृत हुआ था। इसमें धर्मेन्द्र सोनी की प्रेमिका को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है। जिसके मुख्य आरोपी को पुलिस टीम ने मुठभेड़ के दौरान धर दबोचा।