comScore

डॉ. सुभाष चौधरी बने नागपुर यूनिवर्सिटी के नए कुलगुरु, रैकिंग सुधारने पर रहेगा जोर

डॉ. सुभाष चौधरी बने नागपुर यूनिवर्सिटी के नए कुलगुरु, रैकिंग सुधारने पर रहेगा जोर

डिजिटल डेस्क, नागपुर। डॉ.सुभाष रामभाऊ चौधरी को राष्ट्रसंत तुकड़ोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय का नया कुलगुरु चुना गया है। उनका कार्यकाल 5 वर्ष का होगा। 7 अगस्त को राज्यपाल भगतसिंह कोश्यारी द्वारा 5 उम्मीदवारों के ऑनलाइन साक्षात्कार लिए गए थे, जिसके बाद शनिवार को राज्यपाल कार्यालय द्वारा इसकी अधिकृत घोषणा की गई। डॉ.चौधरी शहर के जेडी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग के प्राचार्य थे और कुछ महीनों से नागपुर विवि के प्रभारी प्र-कुलगुरु के रूप में काम कर रहे थे।

जानें, डॉ. चौधरी के बारे में 

शहर के सूर्यानगर निवासी डॉ.चौधरी का जन्म 18 मई 1965 को हुआ। नागपुर विश्वविद्यालय से बीई और अमरावती विश्वविद्यालय से एम.ई की शिक्षा प्राप्त की। सिविल इंजीनियरिंग में नागपुर विवि से पीएचडी की। वर्धा के सेवाग्राम स्थित बापूराव देशमुख कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग में 23 वर्ष तक शिक्षक रहे और वर्ष 2007 से 2011 तक बी.डी.इंस्टीट्यूट के प्राचार्य रहे। वर्ष 2014 से शहर के जेडी कॉलेज के प्राचार्य की जिम्मेदारी संभाल रहे थे।

डॉ.चौधरी लंबे समय से नागपुर विश्वविद्यालय के विविध प्राधिकरणों में विविध पद संभाल चुके हैं। इसमें एकेडमिक काउंसिल, आरआरसी, बोर्ड ऑफ स्टडीज, बोर्ड ऑफ एग्जामिनेशन के सदस्य होने से लेकर तो पीएचडी गाइड होने का भी अनुभव प्राप्त है।

.और यह भी

उल्लेखनीय है कि बीते 7 मार्च को डॉ.सिद्धार्थविनायक काणे के सेवानिवृत्त होने के बाद अमरावती विवि कुलगुरु डॉ.मुरलीधर चांदेकर को नागपुर विवि कुलगुरु पद का अतिरिक्त प्रभार दिया गया। इधर डॉ.चौधरी को प्रभारी प्र-कुलगुरु की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर बढ़ाने पर होगा जोर : डॉ चौधरी

डॉ.सुभाष चौधरी के मुताबिक विश्वविद्यालय में डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर बढ़ाने पर जोर होगा। आईटी रिफार्म ही आज की जरूरत है। ऑनलाइन लर्निंग प्रणाली को मजबूत करेंगे तथा विभिन्न उपक्रमों की मदद से विवि की रैंकिंग सुधारने की दिशा में काम करेंगे।  
 

कमेंट करें
XE0Dt