दैनिक भास्कर हिंदी: महाराष्ट्र के तुमसर में पहुंचा टिड्डी दल - बालाघाट में किसान अलर्ट 

May 28th, 2020

डिजिटल डेस्क बालाघाट। महाराष्ट्र राज्य के भण्डारा जिला अंतर्गत तुमसर तहसील में टिड्डी दल पहुंचने की खबर हैं। जानकारी के अनुसार बालाघाट जिले के पड़ौसी राज्य महाराष्ट्र के भण्डारा जिले के तहसील क्षेत्र तुमसर की दूरी तकरीबन 90 किमी हैं ऐसी स्थिति में टिड्डी दल के जिले में सक्रिय होने की संभावनाओं को लेकर  विभागीय तौर पर अलर्ट जारी किया गया हैं।
प्रदेश के अन्य जिलो में भी सक्रिय   
इधर म.प्र. के अन्य पड़ौसी जिले में टिड्डी दल के सक्रिय होने के बाद जिले के किसान पूरी तरह से अलर्ट हैं। किसानों द्वारा विभागीय तौर पर जारी की गई एडवाइजरी का पालन करते हुए टिड्डी दल के हमले से निपटने को लेकर कार्ययोजना तैयार की जा चुकी हैं। किसानों का कहना है कि अब तक जिले में टिड्डी दल नही पहुंचा है लेकिन म.प्र. एवं पड़ौसी महाराष्ट्र राज्य के अन्य जिलों में सक्रिय होने के बाद से सुरक्षा को लेकर एहतियात बरतना शुरू कर दिया हैं। जानकारी के अनुसार जिले में तकरीबन 40 हजार हैक्टेयर में ग्रीष्मकालीन फसल लगाई गई हैं ऐसी स्थिति में यदि टिड्डी दल पड़ौसी जिले के रास्ते यहां पहुंचता है तो किसानों को फसल नुकसान का सामना करना पड़ सकता है। हालाकि कृषि विभाग द्वारा किसानों को टिड्डी दल के आगमन को लेकर दवाईयों के साथ ही अन्य जरूरी सावधानी को लेकर पूर्व में ही सचेत कर दिया गया हैं। 
टिड्डी दल को भगाने ऐसे करे उपाए  
उप संचालक कृषि सी.आर गौर ने जिले के किसानों से अपील की है कि वे टिड्डी दल के जिले में प्रवेश की संभावना को देखते हुए अपने खेत में लगी फसल की सुरक्षा के लिए खेत में ढोल, ड्रम या अन्य साधन से तेज ध्वनि व शोर करें और कीटनाशक का छिड़काव भी करें। टिड्डी दल के पडोसी महाराष्ट्र के भंडारा जिले की तुमसर तहसील में पहुंचने की सूचना मिल रही है। अत: बालाघाट जिले के किसान सावधान हो जाएं और अपने खेतों में लगी फसलों की सुरक्षा करें। 
फसलों की करें निगरानी
टिड्डी दल के प्रकोप से बचाव हेतु किसान भाइयों को सलाह दी गई है कि वे अपने स्तर पर अपने गांव में समूह बनाकर खेतों में रात्रि के समय निगरानी रखें। यदि टिड्डी दल का प्रकोप होता है तो तत्काल इसकी जानकारी स्थानीय प्रशासन, कृषि विज्ञान केन्द्र सहित किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग को दें। यदि किसी गांव में टिड्डी दल का आक्रमण होता है तो सभी किसान एवं ग्रामीण भाई टोली बनाकर विभिन्न तरह के उपाय जैसे ढोल बजाकर, डीजे बजाकर, थाली, टीन के डिब्बे से शोर मचाकर, ट्रेक्टर का साइलेंसर निकालकर चलाएं तथा अन्य ध्वनि विस्तारक यंत्रों के माध्यम से तेज आवाज कर टिड्डी दल को खेतों से भगाया जा सकता है।