comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

पहली महिला विधायक की रिकार्ड जीत अभी भी चर्चा में  

पहली महिला विधायक की रिकार्ड जीत अभी भी चर्चा में  

डिजिटल डेस्क, चंद्रपुर। पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की करीबी माने जाने वाली यशोधरा बजाज चंद्रपुर जिले के इतिहास में पहली महिला विधायक रहीं। 1972 में हुए चुनाव में यशोधरा बजाज ने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की प्रत्याशी के तौर पर मूल-सावली विधानसभा क्षेत्र से जीत हासिल की थी। हालांकि दूसरी बार पार्टी की अंदरूनी गुटबाजी के कारण उनका टिकट कट गया, परंतु तीसरी बार वर्ष 1980 में हुए विधानसभा चुनाव में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने उन्हें चिमूर विधानसभा क्षेत्र से टिकट दी और उन्होंने विदर्भ में सर्वाधिक वोटों के साथ रिकार्ड जीत हासिल की। उस दौर में यह किस्सा काफी चर्चित रहा। 

सेवा के बूते बनाई पहचान : सामान्य गृहिणी रहीं यशोधरा बजाज ने सामाजिक क्षेत्र में कदम रखा और समाजसेवा में जुट गईं। उन्होंने सर्वोदय महिला मंडल की स्थापना कर आंगनवाड़ी, स्कूल खोलने के साथ जगह-जगह नर्सिंग सेंटर भी शुरू किए। महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने सिलाई-बुनाई का प्रशिक्षण देना शुरू किया। चंद्रपुर जिले के शैक्षणिक क्रांति में महत्वपूर्ण योगदान देनेवाली बजाज ने कुछ समय बाद राजनीति में कदम रखते हुए सर्वप्रथम पार्षद पद का चुनाव लड़ा और वे पंचशील वार्ड से पार्षद चुनी गईं। वर्ष 1972 में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने उन्हें टिकट दी और वे 37 हजार 482 वोटों से चुनाव जीत गईं। इस समय दूसरे स्थान पर रहे भारतीय जनसंघ के उम्मीदवार बालाजी पंत देशकर को 16 हजार 809 वोट ही मिल पाए थे।

गुटबाजी से नहीं बच पाईं : जब 1978 में विधानसभा चुनाव आए तब यशोधरा बजाज को टिकट मिलेगी, यह लगभग तय माना जा रहा था, लेकिन पार्टी की अंदरूनी गुटबाजी के कारण उन्हें टिकट नहीं मिला। कहा जाता है कि वर्ष 1967 में हुए चुनाव में सावली विस क्षेत्र से वामन गड्डमवार कांग्रेस की टिकट पर जीते थे। इसलिए वे टिकट पाने की जिद पर अड़े थे और इस कारण बजाज को टिकट नहीं मिला। इसका खामियाजा भी पार्टी को भुगतना पड़ा और इस चुनाव में कांग्रेस के गढ़ में सेंध लगाते हुए जनता पार्टी के देवराव भांडेकर चुनाव जीत गए। यह वर्ष 1978 की बात है। 

इंदिरा गांधी से था सीधा संपर्क

बजाज का संपर्क सीधे इंदिराजी के साथ होने से वे गुटबाजी से दूर ही रहतीं थीं। इंदिराजी को मुश्किल घड़ी में उन्होंने साथ भी दिया था। 1980 के चुनाव में यशोधरा बजाज को इंदिराजी ने चिमुर विधानसभा क्षेत्र से टिकट दी और उन्होंने 44 हजार 264 रिकार्ड वोट हासिल कर सभी को चकित कर दिया। उनके खिलाफ लड़ने वाले भाजपा प्रत्याशी वसंतराव पोशेट्टीवार को मात्र 13 हजार 168 वोट मिले थे। उस समय कांग्रेस दो गुटों में बंट गई थी और दोनों ही धड़ों ने अपने-अपने प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतारे थे। इनमें से ही भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (उर्स) के प्रत्याशी विट्ठलराव सोनवने को मात्र 12 हजार 666 वोट ही मिल पाए थे।

कमेंट करें
WKQtx
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।