दैनिक भास्कर हिंदी: घायलों और प्रसूताओं को एक ही नंबर पर मिलेगी सेवा

October 7th, 2017

डिजिटल डेस्क,पांढुर्ना। जननी एक्सप्रेस और एंबुलेंस सुविधा के लिए अलग-अलग नंबर डायल करने की व्यवस्था खत्म होने के बाद अब इन सुविधाओं में एकरूपता आ गई है। अब दुर्घटनाओं में घायलों और नवजातों को जन्म देने वाली प्रसूताओं को 108 नंबर पर कॉल करते ही तुरंत सहायता मिलने लगी है। यानि लोगों को इसी एक ही नंबर पर कॉल करने से एम्बुलेंस और जननी एक्सप्रेस वाहन उपलब्ध होने लगे है। इस व्यवस्था के अंतर्गत पांढुर्ना में 108 एंबुलेंस वाहनों की संख्या एक से बढ़ाकर तीन कर दी गई है।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत पूरे प्रदेश के साथ ही पांढुर्ना विकासखंड के मरीजों व प्रसूताओं को भी इंटीग्रेटेड एम्बुलेंस सर्विस का लाभ मिलने लगा है। अब किसी हादसे में घायल को इलाज के लिए अस्पताल पहुंचाना हो या फिर गर्भवती महिला को डिलेवरी के लिए, हर परिस्थिति में लोगों को 108 नंबर पर कॉल करने पर केस के अनुसार तुरंत सेवा उपलब्ध कराई जा रही है। एम्बुलेंस के लिए 108 नंबर लगाने की व्यवस्था प्रदेशभर में पहले से ही लागू है, पर वहीं जननी एक्सप्रेस सेवा के लिए लोगों को छिंदवाड़ा के कॉल सेंटर पर कॉल करना पड़ता था। लेकिन अब एकीकृत एम्बुलेंस सेवा प्रारंभ होने यानि एंबुलेंस की सेवाओं में एकरूपता आने से लोगों को जरूरत के समय इन एम्बुलेंस सेवाओं का लाभ लेने के लिए अलग-अलग नंबर लगाने के बजाय एक ही नंबर 108 डायल करना पड़ रहा है।