comScore

खुलासा: ब्रेसनेन ने कहा, 2011 में सचिन को आउट करने पर मिली थीं जान से मारने की धमकियां

खुलासा: ब्रेसनेन ने कहा, 2011 में सचिन को आउट करने पर मिली थीं जान से मारने की धमकियां

हाईलाइट

  • टिम ब्रेसनेन ने 2011 में टेस्ट मैच में सचिन तेंदुलकर को LBW आउट किया था
  • ब्रेसनेन ने कहा- सचिन को आउट देने के बाद अंपायर रॉड टकर के घर पर धमकी भरी चिट्ठियां आती थीं

डिजिटल डेस्क, लंदन। इंग्लैंड के पूर्व तेज गेंदबाज टिम ब्रेसनेन ने कहा है कि 2011 में टेस्ट मैच में सचिन तेंदुलकर को LBW आउट करने के बाद उनको और अंपायर रॉड टकर को जान से मारने की धमकी मिली थीं। सचिन इस मैच में शतक से चूक गए थे और अगर वह शतक बना लेते तो यह उनका इंटरनेशनल क्रिकेट में 100वां शतक होता। सचिन जब 91 रन पर थे तब उन्हें LBW आउट दे दिया गया था। यह बहुत करीबी फैसला था, क्योंकि रिप्ले में गेंद लेग स्टम्प के ऊपरी हिस्से को बस छूती दिख रही थी। इसके बाद सचिन ने 16 मार्च 2012 को बांग्लादेश के खिलाफ ढाका में अपना 100वां शतक बनाया था।

ब्रेसनेन ने यार्कशायर क्रिकेट कवर्स ऑफ पोडकास्ट पर बातचीत के दौरान कहा, सचिन के नाम 99 इंटरनेशनल शतक थे और उस सीरीज में रिव्यू नहीं थे, क्योंकि BCCI तब इसके खिलाफ थी। यह टेस्ट सीरीज का आखिरी मैच था, जो ओवल मैदान पर खेला जा रहा था। गेंद (जिस पर सचिन आउट हुए) शायद लेग स्टम्प के बाहर जा रही थी और अंपायर टकर ने उन्हें आउट दे दिया। सचिन उस समय 91 रन पर थे और आउट नहीं होते तो निश्चित तौर पर शतक बना लेते। हमने वो सीरीज जीत ली और नंबर-1 बन गए थे।

मुझे ट्विटर पर जान से मारने की धमकियां मिली थीं
इंग्लैंड के लिए 23 टेस्ट और 85 वनडे खेलने वाले ब्रेसनन ने कहा कि, इसके बाद मुझे और अंपायर को बहुत दिनों बाद तक जान से मारने की धमकियां मिल रही थीं। मुझे ट्विटर पर धमकी मिली और अंपायर टकर को उनके घर पर लोग धमकियों भरे पत्र भेज रहे थे कि, आपने उन्हें आउट दे कैसे दिया। कुछ महीनों बाद मैं टकर से मिला तब उन्होंने बताया कि, भाई मुझे सुरक्षा गार्ड मंगाने पड़े थे। ऑस्ट्रेलिया में उन्हें पुलिस सुरक्षा लेनी पड़ी थी।

कमेंट करें
XzAot
NEXT STORY

Paytm Money: अब पेटीएम मनी ऐप से हर कोई कर सकता है स्टॉक मार्किट में  निवेश, कंपनी का 10 लाख निवेशकों को जोड़ने का लक्ष्य

Paytm Money: अब पेटीएम मनी ऐप से हर कोई कर सकता है स्टॉक मार्किट में  निवेश, कंपनी का 10 लाख निवेशकों को जोड़ने का लक्ष्य

डिजिटल डेस्क, दिल्ली। भारत के घरेलु वित्तीय सेवा प्रदाता पेटीएम ने आज घोषणा की है कि इसकी पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी पेटीएम मनी ने देश में सभी के लिए स्टॉकब्रोकिंग की सुविधा शुरू कर दी है। कंपनी का लक्ष्य इस वित्त वर्ष में 10 लाख से अधिक निवेशकों को जोड़ना है, जिसमें अधिकतर छोटे शहरों और कस्बों से आने वाले फर्स्ट टाइम यूजर्स होंगे। इस प्रयास का उद्देश्य उत्पाद के आसान उपयोग, कम मूल्य निर्धारण (डिलीवरी ऑर्डर पर जीरो ब्रोकरेज, इंट्राडे के लिए 10 रुपये) और डिजिटल केवाईसी के साथ पेपरलेस खाता खोलने के साथ निवेश को प्रोत्साहित करना तथा अधिक-से-अधिक लोगों तक पहुंचना है। कंपनी भारत में सबसे व्यापक ऑनलाइन वेल्थ मैनेजमेंट प्लेटफार्म बनने के लिए प्रयासरत है, जो वित्तीय समावेशन के लक्ष्य के तहत आम लोगों तक आसानी से पहुंच सके।

पेटीएम मनी को अपने शुरुआती प्रयास में ही लोगों से भारी प्रतिक्रिया मिली और उसने 2.2 लाख से अधिक निवेशकों को अपने साथ जोड़ लिया। इनमें से, 65% उपयोगकर्ता 18 से 30 वर्ष के आयु वर्ग में हैं, जो दर्शाता है कि नई पीढ़ी अपनी वेल्थ पोर्टफोलियो का निर्माण कर रही है। टियर-1 शहरों जैसे मुंबई, बैंगलोर, हैदराबाद, जयपुर और अहमदाबाद में इस प्लेटफार्म को बड़े स्तर पर अपनाया गया है। ठाणे, गुंटूर, बर्धमान, कृष्णा, और आगरा जैसे छोटे शहरों में भी लोगों का भारी झुकाव देखने को मिला है। यह सेवा सुपर-फास्ट लोडिंग स्टॉक चार्ट्स, ट्रैक मार्केट मूवर्स एंड कंपनी फंडामेंटल्स सुविधाओं के साथ अब आईओएस, एंड्रॉइड और वेब पर उपलब्ध है। पेटीएम मनी ऐप शेयरों पर निवेश, व्यापार और सर्च के लिए प्राइस अलर्ट और एसआईपी सेट करने के लिए आसान इंटरफ़ेस प्रदान करता है।

इस अवसर पर पेटीएम मनी के सीईओ, वरुण श्रीधर ने कहा, "हमारा उद्देश्य वेल्थ मैनेजमेंट सेवाओं को आबादी के बड़े हिस्से तक पहुंचाना है, जो आत्मानिर्भर भारत के लक्ष्य में योगदान करेगी। हमारा मानना है कि यह मिलेनियल और नए निवेशकों को उनके वेल्थ पोर्टफोलियो के निर्माण में सक्षम बनाने का समय है। प्रौद्योगिकी पर आधारित हमारे समाधान शेयर में निवेश को सरल और आसान बनाता है। हम वर्तमान उत्पादों को चुनौती देते रहेंगे और भारत के सर्वश्रेष्ठ उत्पाद का निर्माण करते रहेंगे। हम पेटीएम मनी को सभी भारतीय के लिए एक व्यापक वेल्थ मैनेजमेंट प्लेटफार्म बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। "

इतने कम समय में पेटीएम मनी पर स्टॉक ट्रेडिंग को व्यापक रूप से अपनाया जाना काफी महत्व रखता है। यह हर भारतीय के लिए डिजिटल निवेश को आसान बनाने के कंपनी के प्रयासों की सराहना को भी दर्शाता है। शेयरों में आसान निवेश के साथ, प्लेटफॉर्म उपयोगकर्ता को बाजार के बारे में शोध करने, मार्केट मूवर्स का पता लगाने, अनुकूल वॉचलिस्ट तैयार करने और 50 से अधिक शेयरों के लिए प्राइस अलर्ट सेट करने के अवसर प्रदान करता है। इसके अलावा, उपयोगकर्ता स्टॉक के लिए साप्ताहिक / मासिक एसआईपी सेट कर सकते हैं, और स्टॉक में निवेश को आॅटोमेट कर सकते हैं। बिल्ट-इन ब्रोकरेज कैलकुलेटर के साथ, निवेशक लेनदेन शुल्क का पता लगा सकते हैं और शेयरों को लाभ पर बेचने के लिए ब्रेक-इवेन प्राइस जान सकते हैं। इसके अलावा, स्टॉक ट्रेडिंग के अनुभव को और बेहतर बनाने के लिए एडवांस्ड चार्ट और अन्य विकल्प जैसे कवर चार्ट तथा ब्रैकेट ऑर्डर भी जोड़े गए हैं। इन सुविधाओं के अलावा बैंक-स्तरीय सुरक्षा के साथ निवेशकों के व्यक्तिगत डेटा को सुरक्षित रखते हुए अन्य सुविधाएं भी उपलब्ध होंगी।


पेटीएम मनी के बारे में
पेटीएम मनी वन97 कम्युनिकेशंस की पूर्ण स्वामित्व वाली एक सहायक कंपनी है। वन97 कम्युनिकेशंस भारत की घरेलू वित्तीय सेवा प्रदाता पेटीएम का स्वामित्व भी रखता है। यह देश का सबसे बड़ा ऑनलाइन इंवेस्टमेंट प्लेटफार्म है, और अब इसने उपयोगकर्ताओं के लिए डायरेक्ट म्यूचुअल फंड्स और एनपीएस के अपने वर्तमान आॅफर में स्टॉक्स को भी जोड़ दिया है। पेटीएम मनी का लक्ष्य एक पूर्ण-स्टैक इंवेस्टमेंट और वेल्थ मैनेजमेंट प्लेटफार्म बनना और लाखों भारतीयों तक धन सृजन के अवसरों को पहुंचाना है। बेंगलुरु स्थित मुख्यालय से संचालित इस कंपनी की टीम में 300 से अधिक सदस्य हैं।