पहली प्राइवेट यूनिवर्सिटी : पूर्वोत्तर भारत के पहले निजी विश्वविद्यालय को मिली NAAC की मान्यता

November 6th, 2021

डिजिटल डेस्क, शिलांग। पूर्वोत्तर क्षेत्र के पहले निजी विश्वविद्यालय विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय मेघालय (यूएसटीएम), को राष्ट्रीय मूल्यांकन और प्रत्यायन परिषद (एनएएसी) ने ए ग्रेड की मान्यता रेटिंग से नवाजा है। इसकी जानकारी अधिकारियों ने दी।

यूएसटीएम के प्रवक्ता ने कहा कि विश्वविद्यालय को खुले हुए केवल 8 साल हुए है और उसे एनएएसी की मान्यता मिल गई है, जो विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा स्थापित एक स्वायत्त निकाय है। एनएएसी देश में उच्च शिक्षा के संस्थानों का आकलन कर उन्हें मान्यता देता है और विश्वविद्यालयों का मूल्यांकन 7-बिंदु पर करता है।

अपने प्रयास में विश्वविद्यालय का समर्थन करने के लिए मेघालय सरकार को धन्यवाद देते हुए, यूएसटीएम के चांसलर महबूबुल हक ने कहा कि पांच साल का मूल्यांकन छात्रों के पांच सफल बैचों पर आधारित है। उन्होंने कहा कि एनएएसी की टीम ने यूएसटीएम की कार्यो की सराहना की, जिसमें इसकी पे बैक नीति और गांवों को अपनाना शामिल है। यूएसटीएम के एक बयान में कहा गया है कि मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड के. संगमा ने विश्वविद्यालय को एनएएसी मान्यता प्राप्त करने के लिए बधाई दी।

यूएसटीएम के अधिकारियों ने कहा कि केवल एक कंप्यूटर और चार छात्रों के साथ, निजी विश्वविद्यालय ने अपनी यात्रा शुरू की और अब संस्थान में सभी आठ पूर्वोत्तर राज्यों से लगभग 6,000 छात्र हैं।

(आईएएनएस)