दैनिक भास्कर हिंदी: छत्तीसगढ़ की इस मॉडल ने तोड़ा फेयर इज ब्यूटीफुल का मिथ, बनी इंडियन रिहाना

September 6th, 2018

डिजिटल डेस्क, मुंबई। अंग्रेजी की एक कहावत है- 'Beauty lies in the eyes of beholder' सुंदरता देखने वाले की आंखों में होती है। इस प्रसिद्ध कहावत का रिएलिटी में मतलब समझाने वाली छत्तीसगढ़ की एक मॉडल हाल ही में दुनिया के सामने आई है। 23 साल की मॉडल रेने कुजूर ने भारत के 'फेयर इज ब्यूटीफुल' मिथ को एक झटके में धराशाही कर दिया है। ना केवल उनकी खूबसूरती को बल्कि अमेरिका की R&B सुपरस्टार रिहाना से उनके मिलते-जुलते लुक को देखकर भी लोग शॉक्ड हैं। 

रेसिस्ट कमेन्ट्स के बीच बीता बचपन 

ऐसे देश में, जहां खूबसूरती की परिभाषा गोरा रंग माना जाता है, डार्क स्किन के साथ आगे बढ़ने का रास्ता आसान नहीं होता। छत्तीसगढ़ के एक छोटे से इलाके से आने वाली रेने का भी फैशन इंटस्ट्री में सफर काफी कठिन रहा है। हालांकि अब सभी ने उन्हें उनके रूप में पहचाना और स्वीकारा है, पर शुरू के दिनों में ऐसा नहीं था। डार्क कॉम्प्लेक्शन के कारण उन्हें हमेशा से ही रेसिस्ट कमेन्ट्स सुनने पड़े जिससे उनका चाइल्डहुड काफी इंबैलेंस्ड और डिप्रेस्ड भरा रहा।

स्कूल में चिढ़ाते थे बच्चे

बचपन की यादों को साझा करते हुए उन्होंने बताया कि डार्क होने के कारण सारे बच्चे उन्हें अलग-अलग नामों से चिढ़ाते थे। एक बार पूरे स्कूल ऑडिटोरियम में उन्हें काली परी कहा गया और वो सिर्फ खड़ी होकर रोती रहीं। उन्हें लोग हमेशा उनके काले होने का एहसास दिलाते थे और पिक्चर्स को फोटोशॉप करने की सलाह देते थे। फोटोशूट्स के दौरान भी फोटोग्राफर्स, मेकप आर्टिस्ट्स को उनका कॉम्प्लेक्शन 3-4 शेड लाइट करने को कहते थे। 

कई ब्रैंड्स के लिए किया रैंप वॉक

ना सिर्फ लोगों ने बल्कि उनकी अपनी इंडस्ट्री ने भी उन पर रेसिस्ट कमेन्ट्स किए हैं। इंडिया के मिथिकल ब्यूटी स्टैंडर्ड में फिट ना बैठने की वजह से उन्हें हमेशा ऑब्जेक्टिफाई किया गया, लेकिन इन सब को गलत साबित कर, अब वो एक सफल मॉडल हैं और कई बड़े ब्रैन्ड्स के लिए रैंप वॉक कर चुकी हैं। देश की जानी-मानी फैशन और लाइफस्टाइल क्रिटिक मिस मालिनी ने भी उनकी पिक्चर्स अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर शेयर की हैं। उनके रिहाना के लुक अलाइक होने ने भी लोगों का ध्यान उनकी ओर खींचा है। 

 

उनकी कहानी हमारे देश में ब्यटी स्टैंडर्ड के जजमेंटल माइंडसेट को दिखाती है। खूबसूरती का कोई शेप, साइज या कलर नहीं होता। उम्मीद है कि भारत इसे जल्द ही एक्सेप्ट करेगा।