अफगानिस्तान : पाक विदेश मंत्री के साथ बातचीत के दौरान अफगान सरकार के गठन पर अमेरिका ने जताया रोष

September 24th, 2021

हाईलाइट

  • पाक विदेश मंत्री के साथ बातचीत के दौरान अफगान सरकार के गठन पर अमेरिका ने जताया रोष

डिजिटल डेस्क, अफगानिस्तान। माना जा रहा है कि काबुल में अंतरिम तालिबान सरकार के गठन में इस्लामाबाद की भूमिका को लेकर अमेरिका ने पाकिस्तान को अपनी नाखुशी से अवगत करा दिया है। यह संदेश पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी को दिया गया है, जिन्होंने गुरुवार रात संयुक्त राष्ट्र महासभा से इतर न्यूयॉर्क में अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन से मुलाकात की थी।

इस साल की शुरुआत में जनवरी में जो बाइडेन के अमेरिकी राष्ट्रपति के रूप में पदभार संभालने के बाद से तीन बार टेलीफोन पर हुई बातचीत के बाद दोनों के बीच यह पहली व्यक्तिगत मुलाकात थी। वाशिंगटन ने अफगानिस्तान पर जी-20 बैठक में काबुल में शासन के लिए पांच प्रमुख कार्रवाई क्षेत्रों को सूचीबद्ध किया है, यदि वह गंभीरता से अंतरराष्ट्रीय समुदाय से वैधता और समर्थन मांग रहा है।

ब्लिंकेन ने स्पष्ट कर दिया है कि जब मुद्दे की बात आती है तो काबुल में कार्यवाहक कैबिनेट फिट नहीं बैठती है। उन्होंने सभी को याद दिलाया कि यह एक जातीय समूह से संबंधित है, विशेष रूप से जिसमें पुरुष ही शामिल हैं और निश्चित रूप से ऐसे लोग शामिल हैं जो अमेरिका और गठबंधन बलों के साथ-साथ नागरिकों पर हमलों के लिए कुख्यात रहे हैं।

गुरुवार को न्यूयॉर्क के एक होटल में कुरैशी के साथ अपनी बैठक शुरू करने से पहले, अमेरिकी विदेश मंत्री ने संकेत दिया कि दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय और आर्थिक संबंधों का भविष्य आने वाले महीनों में अफगानिस्तान में क्या होता है, इस पर निर्भर हो सकता है। ब्लिंकेन ने कहा, अफगानिस्तान से शुरू होने और हमारे देशों के साथ मिलकर काम करने और अफगानिस्तान पर आगे बढ़ने के महत्व पर ध्यान केंद्रित करने के लिए बहुत कुछ है।

उन्होंने कहा उस काम की सराहना करते हैं, जो पाकिस्तान ने उन अमेरिकी नागरिकों के प्रस्थान की सुविधा के लिए किया है, जो अन्य लोगों के साथ-साथ छोड़ना (अफगानिस्तान से निकलना) चाहते थे, लेकिन वहां के साथ-साथ हमारे अपने द्विपक्षीय संबंधों के बारे में बात करने के लिए बहुत कुछ है, जिसमें हमारे अपने द्विपक्षीय संबंध, जिसमें हमारे देशों के बीच आर्थिक संबंध और पूरे क्षेत्र में काम करने जैसी चीजें शामिल हैं।

अफगानिस्तान में तालिबान को फिर से सत्ता में लाने में पाकिस्तान की भूमिका कभी भी गुप्त नहीं रही है। पंजशीर घाटी में अफगान प्रतिरोध मोर्चे के खिलाफ तालिबान-पाकिस्तान के संयुक्त अभियान से पहले काबुल में आईएसआई प्रमुख फैज हमीद की मौजूदगी ने ताजिकिस्तान सहित कई पड़ोसी देशों को भी नाराज कर दिया है।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने पिछले हफ्ते दुशांबे में ताजिकिस्तान के राष्ट्रपति इमोमाली रहमोन से कहा था, श्रीमान राष्ट्रपति आप ताजिक के साथ अपने प्रभाव की कोशिश करेंगे और हम पश्तून या तालिबान के साथ अपनी पूरी कोशिश करेंगे।

अमेरिका के यह कहने के साथ कि तालिबान से वाशिंगटन को जो देखने की जरूरत है, उसमें काफी अभिसरण है, क्योंकि चीनी सहित कोई भी, वर्तमान तालिबान शासन से संतुष्ट नहीं है और यह इस्लामाबाद के लिए पर्याप्त चेतावनी संकेत हैं।

कुरैशी ने ब्लिंकेन को बताया कि वही अंतरराष्ट्रीय समुदाय, जो तालिबान को अपनी प्रतिबद्धताओं पर कायम रखने की बात कहता है, का भी नैतिक दायित्व है कि वह बढ़ते मानवीय संकट के साथ अफगान लोगों की मदद करे।पाक विदेश मंत्री ने कहा, दुनिया को अफगानिस्तान से अलग होने की गलती नहीं दोहरानी चाहिए।

उन्होंने यह भी कहा कि पाकिस्तान अफगानिस्तान में समावेशी राजनीतिक समाधान की सुविधा के लिए प्रतिबद्ध है, पिछले कुछ हफ्तों में काबुल में जो कुछ हुआ है, उससे बहुत से लोग संतुष्ट नहीं होंगे।

आईएएनएस