comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

नए चीन की स्थापना की 70वीं वर्षगांठ पर भव्य समारोह आयोजित

October 01st, 2019 23:30 IST
 नए चीन की स्थापना की 70वीं वर्षगांठ पर भव्य समारोह आयोजित

बीजिंग, 1 अक्टूबर (आईएएनएस)। चीन के विकास ने नए युग में प्रवेश कर लिया है। विश्व पर चीन का प्रभाव पहले कभी इस तरह बड़ा नहीं रहा। चीन के प्रति विश्व की नजर कभी इस तरह विस्तृत नहीं रही। एक अक्तूबर की सुबह चीन लोक गणराज्य की स्थापना की 70वीं वर्षगांठ पर पेइचिंग के थ्येनआनमन चौक पर सैन्य परेड और सामूहिक रैली भव्य रूप से आयोजित हुई।

इस मौके पर चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने अहम भाषण दिया और सैन्य परेड में शामिल सभी सैनिकों की सलामी स्वीकार की। उन्होंने जोर दिया कि कोई भी शक्ति चीन के स्थान को हिला नहीं सकती, और न ही कोई भी शक्ति चीनी जनता और चीनी राष्ट्र को आगे बढ़ने से रोक सकती।

सुबह 10 बजे, चीन लोक गणराज्य की स्थापना की 70वीं जयंती मनाने का समारोह शुरू हुआ। 70 तोपों की सलामी दी गयी। चीनी राष्ट्रीय झंडे को थ्येनआनमन चौक पर फहराया गया।

पिछले 70 सालों में चीनी कम्युनिस्ट पार्टी ने विभिन्न जातियों की जनता का नेतृत्व कर चीनी करिश्मा रचा। चीन का आर्थिक व सामाजिक विकास उल्लेखनीय है। चीन एक गरीब देश से विश्व की दूसरी बड़ी आर्थिक इकाई, सबसे बड़ा व्यापार देश, सबसे ज्यादा विदेशी मुद्रा रखने वाला देश और विदेशों में निवेश करने वाला दूसरा बड़ा देश बन चुका है। चीन में औसत व्यक्ति की आयु अवधि 1949 में 35 वर्ष से बढ़कर 2018 में 77 वर्ष तक बढ़ गयी। चीन में विश्व में सबसे बड़ी सामाजिक गारंटी प्रणाली की स्थापना भी की गई।

शी चिनफिंग ने बताया कि चीन लोक गणराज्य की स्थापना ने हाल में चीन में गरीबों व कमजोरों के दुर्भाग्य को बदला है। चीनी राष्ट्र महान पुनरुत्थान के रास्ते पर चल रहा है। पिछले 70 सालों में चीनी जनता के कठोर संघर्ष से महान उपलब्धियां हासिल हुई हैं।

पिछले 70 सालों में चीन की विभिन्न जातियों के लोगों ने कठोर संघर्ष कर महान उपलब्धियों को हासिल किया। आज समाजवादी चीन विश्व के पूर्वी भाग पर खड़ा है। कोई भी शक्ति चीन के स्थान को हिला नहीं सकती, कोई भी शक्ति चीनी जनता और चीनी राष्ट्र को आगे बढ़ने से रोक नहीं सकती।

शी चिनफिंग ने बल देते हुए कहा कि चीन आगे बढ़ रहा है, इसी दौरान चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के नेतृत्व पर कायम रहना चाहिए। जनता के प्रमुख स्थान पर डटा रहना चाहिए, चीनी विशेषता वाले समाजवादी रास्ते पर कायम रहना चाहिए। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की बुनियादी विचारधारा, रास्ता और सिद्धांत का व्यापक तौर पर कार्यान्वयन किया जाना चाहिए। सुन्दर जीवन के प्रति जनता की अभिलाषा को लगातार संपूर्ण किया जाना चाहिए और नए ऐतिहासिक महान कार्य की रचना की जानी चाहिए।

उन्होंने कहा, चीन के विकसित होने की प्रक्रिया में शांतिपूर्ण पुनरेकीकरण और एक देश दो व्यवस्थाएं के सिद्धांत पर अटल रहते हुए हांगकांग व मकाओ की दीर्घकालीन समृद्धि व स्थिरता को बरकरार रखना चाहिए, थाईवान जलडमरुमध्य के दोनों तटों के संबंधों के शांतिपूर्ण विकास को आगे बढ़ाना चाहिए। हमें एकजुट होकर मातृभूमि के पुनरेकीकरण के लिए संघर्ष करें। चीन का अतीत मानव जाति के इतिहास में लिखा जा चुका है। चीन का नया अध्याय करोड़ों जनता द्वारा लिखा जा रहा है। चीन का भविष्य अवश्य ही और उज्‍जवल होगा।

चीन लोक गणराज्य की स्थापना की 70वीं वर्षगांठ में शी चिनफिंग ने पार्टी, सेना और जनता से और घनिष्ट रूप से एकजुट होकर चीन लोक गणराज्य को मजबूत बनाने, विकसित करने, 200 वर्षों के संघर्ष लक्ष्य को पूरा करने और चीनी राष्ट्र के महान पुनरुत्थान के चीनी स्वप्न को साकार करने के लिए संघर्ष करने का आह्वान किया। शी चिनफिंग के भाषण के बाद एक भव्य सैन्य परेड का आयोजन किया गया।

यह चीनी सेना के सुधार के बाद पहला प्रदर्शन है। कुल 15 हजार लोग सैन्य परेड में शामिल हुए। यह इधर के सालों में सबसे बड़े पैमाने वाला सैन्य परेड है। इस सैन्य परेड में कुल 15 हजार सैनिक, 160 से अधिक विमान शामिल हुए। सैन्य परेड ने पिछले 70 सालों में चीनी प्रतिरक्षा उद्योग के विकास स्तर और सेना के निर्माण में प्राप्त भारी परिवर्तन का प्रदर्शन किया। चीनी सेना के संयुक्त कमांड, संयुक्त कार्यवाई और संयुक्त गारंटी की क्षमता निरंतर मजबूत की जाती है।

सैन्य परेड के बाद करीब 1 लाख लोगों और 70 रंगीन कारों से गठित 36 ग्रुपों सैन्य परेड के बाद सामूहिक रैली का आयोजन किया गया। 1 लाख लोगों और 70 रंगीन कारों से गठित 36 टीमों ने विविधतापूर्ण तरीकों से मातृभूमि के प्रति अपनी शुभकामनाएं प्रेषित कीं।

समारोह के अंत में 70 हजार कबूतरों और 70 हजार गुब्बारों को चीनी जनता के उज्‍जवल स्वप्न के साथ आसमान में उड़ाए गए।

(साभार-चाइना रेडियो इंटरनेशनल, पेइचिंग)

कमेंट करें
XP83j
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।