दैनिक भास्कर हिंदी: Live: PM मोदी की अगुवाई में जम्मू-कश्मीर पर बैठक खत्म, 3 घंटे तक चली बैठक, बैठक के बाद ये बोले नेता

June 24th, 2021

हाईलाइट

  • चार पूर्व मुख्यमंत्रियों सहित 14 नेताओं को न्योता
  • कई नेता बुधवार शाम ही दिल्ली पहुंच चुके हैं
  • सर्वदलीय बैठक की अगुवाई पीएम मोदी करेंगे

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर (Jammu- Kashmir) का विशेष दर्जा खत्म किए जाने के करीब दो साल बाद आज बड़ी बैठक में केंद्र सरकार की ओर से राज्य के नेताओं के साथ बातचीत खत्म हो चुकी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) द्वारा बुलाई गई यह सर्वदलीय बैठक दोपहर 3 बजे यह बैठक 7, लोक कल्याण मार्ग पर शुरू हुई। जिसमें पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती, नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला, कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद और जम्मू-कश्मीर के अन्य नेता मौजूद रहे।

इसके अलावा इस बैठक में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, एनएसए अजित डोभाल और जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा, रविंद्र रैना, कविंद्र गुप्ता और निर्मल सिंह भी इस चर्चा में शामिलरहे।

गुलाम नबी आजाद ने क्या कहा?

गुलाम नबी आजाद ने कहा कि जम्मू कश्मीर के राज्य के दर्जे पर चर्चा हुई। धारा 370 पर मामला सुप्रीम कोर्ट में है लिहाजा  इस पर कोई बात नहीं हो सकी।

ममता बनर्जी का विवादित बयान
सर्वदलीय बैठक के बीच बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) का विवादित बयान सामने आया । सीएम ममता ने कहा कि कश्मीर की आजादी नहीं छीननी चाहिए।

बैठक से पहले की तस्वीर
बता दें कि इस बैठक में फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती सहित सहित 14 नेताओं को न्योता भेजा गया था। इनमें से अधिकांश नेता बुधवार शाम तक दिल्ली पहुंच गए थे। इस बैठक में जम्मू-कश्मीर के राजनीतिक भविष्य को लेकर चर्चा की जाएगी। जबकि बैठक से पहले केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मोदी से मुलाकात की और घाटी में सुरक्षा स्थिति पर चर्चा की।

महबूबा के बयान से अब्दुल्ला का किनारा
पीएम मोदी की बैठक से पहले नेशनल कांफ्रेस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने मीडिया से कहा, “मैं बैठक में जा रहा हूं। मैं वहां मांगों को रखूंगा और फिर आपसे बात करूंगा। हम उम्मीद करेंगे कि प्रधानमंत्री और गृह मंत्री हमारी बात को शांति से सुनें और कोई ऐसा हल निकालें, जिससे राज्य में अमन और शांति कायम हो।

महबूबा मुफ्ती के बयान से किनारा करते हुए फारूक ने कहा कि, हमें पाकिस्तान के बारे में बात नहीं करनी है बल्कि अपने वतन के बारे में चर्चा करनी है। उन्होंने कहा कि वे अपनी पार्टी की अध्यक्ष हैं, वो क्या कहती हैं इस पर मैं क्यों बोलूं।

धारा 370 हटने के बाद क्या क्या बदला, क्यों जरूरी है मोदी की बैठक?

48 घंटे के लिए अलर्ट
आपको बता दें कि, इस बैठक के आयोजन की खबरें आने के बाद से ही यहां हलचल शुरू हो गई है। पाकिस्तान भी इस बात को लेकर डरा हुआ है। वहीं राज्य में 48 घंटे के लिए अलर्ट जारी कर दिया गया है। यही नहीं यहां लाइन ऑफ कंट्रोल पर भी नज़र पैनी कर दी गई है।

ये नेता होंगे शामिल 
इाज आयोजित होने जा रही इस सर्वदलीय बैठक में कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद, नेशनल कांफ्रेंस के फारुख अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला, गुलाम अहमद मीर, ताराचंद, पीडीपी की महबूबा मुफ्ती, बीजेपी के निर्मल सिंह, कविन्द्र गुप्ता और रविन्द्र रैना, पीपुल कांफ्रेंस के मुजफ्फर बेग और सज्जाद लोन, पैंथर्स पार्टी के भीम सिंह, सीपीआईएम के एमवाई तारीगामी और जेके अपनी पार्टी के अल्ताफ बुखारी शामिल होंगे। 

J&K के शोपियां जिले में एनकाउंटर में मारा गया हिजबुल मुजाहिदीन का आतंकवादी 

सरकार की ओर से ये नेता होंगे शामिल
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह, जम्मू कश्मीर के एलजी मनोज सिन्हा, एनएसए अजित डोवाल, पीएम के प्रिंसिपल सेक्रेटरी पीके मिश्रा, गृहसचिव अजय भल्ला, अन्य उच्च अधिकारी

खबरें और भी हैं...