दैनिक भास्कर हिंदी: Lock Down 2: देशभर के जिलों को तीन जोन में बांटा, कोरोना मरीजों का पता लगाने चलेगा अभियान

April 16th, 2020

हाईलाइट

  • देश लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामले
  • अबतक कोरोना से 350 से अधिक लोगों की मौत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। नोवल कोरोना वायरस से लड़ने के लिए देश में दूसरी बार लॉकडाउन लागू हो गया है। जिसका आज दूसरा दिन है। देश में कोविड-19 मरीजों की संख्या अबतक 12 हजार हो गई है, जबकि 350 से अधिक लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय ने सख्त गाइडलाइन जारी की है। अब देश के सभी जिलों को तीन जोन में बांटा गया है।

जिलो को तीन जोन में बांटा:

  • रेड जोन: हॉटस्पॉट वाले जिले शामिल होंगे। वहां सबकुछ बंद रहेगा।
  • ऑरेंज जोन: जिन जिलों में नए रोगी नहीं मिले और पुराने मरीज कम है।
  • ग्रीन जोन: संक्रमण मुक्त जिले वहां व्यापारिक गतिविधियां शुरू हो जाएंग

डोर टू डोर होगा सर्वे:

देश में फिलहाल 170 हॉटस्पॉट जिले हैं। इन जिलों में डोर टू डोर सर्वे होगा। इन जिलों में जिन्हें भी सर्दी-खांसी होगी उनका कोरोना टेस्ट किया जाएगा। वहीं रोगी के संपर्क में आए लोगों को भी तलाशा जाएगा। हॉटस्पॉट क्षेत्र में लोगों की पहचान के लिए हर हफ्ते अभियान चलाया जाएगा। हॉटस्पॉट से लगे क्षेत्रों को बफर जोन घोषित किया गया है।

इलाज के लिए लगाते रहे अस्पताल के चक्कर, बुजुर्ग ने स्कूटी पर तोड़ा दम

अलग अस्पताल बनाने का निर्देश:

जिन जिलों में कम केस हैं। उन्हें नॉन हॉटस्पॉट जोन में रखा गया है। इन जिलों में नोवल कोरोना वायरस के लिए अलग अस्पताल बनाने का निर्देश दिया गया है। वहीं वायरस से निपटने जरूरी उपाय करने के भी निर्देश दिए हैं।

लूडो खेलते वक्त छींक आने पर झगड़ा, युवक ने कहा कोरोना दे दूंगा, मारी गोली

ग्रीन जोन में प्रशासन रखेगा नजर:

ग्रीन जोन उन जिलो को माना जाएगा जहां कोई केस नहीं आया है। इन जिलों में प्रशासन द्वारा नजर रखी जाएगी। इधर स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्य सरकारों से कहा कि जिस इलाके में 28 दिन में कोई केस नहीं मिला है,उन्हें ग्रीन या ऑरेंज जोन में बदला जाए।