दैनिक भास्कर हिंदी: VHP ने दी मोदी सरकार को धमकी, राम मंदिर नहीं बना तो हार जाएंगे 2019 चुनाव

October 6th, 2018

हाईलाइट

  • VHP अयोध्या में राम मंदिर मामले पर केंद्र सरकार को घेरने का प्लान बना रही है।
  • शुक्रवार को दिल्ली में हुए बैठक के बाद VHP ने एनडीए सरकार को धमकी दी है।
  • VHP ने कहा है कि यदि लोकसभा चुनाव से पहले राम मंदिर नहीं बनाया गया, तो पार्टी चुनाव हार जाएगी।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। 2019 लोकसभा चुनाव में अब एक साल से भी कम समय रह गया है। केंद्र की सत्ताधारी पार्टी बीजेपी अपना किला बचाने की तैयारियों में जुटी हुई है। वहीं दूसरी ओर विश्व हिंदू परिषद (VHP) अयोध्या में राम मंदिर मामले पर केंद्र सरकार को घेरने का प्लान बना रही है। शुक्रवार को दिल्ली में हुई बैठक के बाद VHP ने एनडीए सरकार को धमकी दी है। VHP ने कहा है कि यदि लोकसभा चुनाव से पहले राम मंदिर नहीं बनाया गया, तो चुनाव में एनडीए को जिताने में वह कोई सहायता नहीं करेंगी और पार्टी चुनाव हार जाएगी। दिल्ली में आयोजित इस बैठक में VHP और संतों की एक कमेटी ने अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनाने को लेकर प्रस्ताव पास किया। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट 29 अक्टूबर से अयोध्या मामले पर सुनावाई करेगा।

VHP ने कहा कि वह राम मंदिर मामले पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिलकर उन्हें एक मेमोरेंडम भी सौपेंगे। इसके बाद एक प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की जाएगी। वहीं संतों की उच्चाधिकार कमेटी ने कहा कि केंद्र सरकार को कानून बनाकर राम मंदिर बनवाना शुरू कर देना चाहिए। VHP ने कहा, 'अगर सरकार कोई तय समय सीमा नहीं देती है तो हमारे पास आंदोलन और विद्रोह का ही एकमात्र रास्ता बचेगा।'

संतों की इस कमेटी ने केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि सरकार और सुप्रीम कोर्ट की चुप्पी पर हमें दुख है। कमेटी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने धारा 377 से सबरीमाला तक और ट्रिपल तालक सभी मामलों को सुना, लेकिन राम मंदिर का मुद्दा आने पर कोई निर्णय नहीं लिया। अखिल भारतीय संत समिति के महामंत्री स्वामी जीतेंद्रानंद सरस्वती ने कहा कि मंदिर नहीं बन पाए इसके लिए हिंदू विरोधी गुट जबरदस्त साजिश रच रहे हैं। वहीं स्वामी चिन्मयानंद ने कहा कि राम मंदिर बनने का इंतजार करते-करते कई महापुरुष स्वर्ग सिधार गए। सरकार अब मंदिर नहीं बनवाएगी तो संतों को गंभीर कदम उठाना पड़ेगा। 

इससे पहले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मोहन भागवत ने केंद्र सरकार से बिना किसी देरी के राम मंदिर के निर्माण की मांग की थी और कहा था कि यह हिंदू-मुस्लिम विवाद को हल करेगा। भागवत ने कहा, 'हम सभी जानते हैं कि राम मंदिर को ध्वस्त किया गया था। सभी को इस वास्तविकता को स्वीकार करना चाहिए। भगवान राम हमारे (हिंदू) विश्वास का प्रतीक हैं और यदि हमें इसका सबूत देना पड़े तो लोग इसे कभी स्वीकार नहीं करेंगे। यह देश बिना किसी देरी के राम मंदिर का निर्माण होता हुआ देखना चाहता है। एक बार जब मंदिर बन जाएगा तो हिंदुओं और मुस्लिमों के बीच विवाद हमेशा के लिए खत्म हो जाएगा।'