comScore

Amazon, Flipkart की बिक्री की छूट को लेकर कैट ने लिखा प्रधानमंत्री को पत्र

Amazon, Flipkart की बिक्री की छूट को लेकर कैट ने लिखा प्रधानमंत्री को पत्र

हाईलाइट

  • Amazon और Flipkart के बीच कीमतों और छूट को लेकर विवाद गहराया
  • व्यापारी संगठन का मानना है कि ये कंपनियां प्रेस नोट-2 का उल्लंघन कर रही
  • कैट ने इस मसले पर बातचीत के लिए प्रधानमंत्री मोदी से समय मांगा है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) और ई-कॉमर्स क्षेत्र की दिग्गज कंपनियां Amazon और Flipkart के बीच कीमतों और छूट को लेकर विवाद गहरा गया है। व्यापारी संगठन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से ई-कॉमर्स कंपनियों द्वारा एफडीआई (प्रत्यक्ष विदेशी निवेश) नीति का उल्लंघन किए जाने के मामले में हस्तक्षेप करने की मांग की है।

बिजनेस मॉडल की ओर ध्यान दें पीएम
कैट ने इस मसले पर बातचीत के लिए प्रधानमंत्री से समय मांगा है। कैट ने अपने पत्र में मोदी से Amazon और Flipkart के बिजनेस मॉडल की ओर ध्यान देने का आग्रह किया है। व्यापारी संगठन का मानना है कि ये कंपनियां प्रेस नोट-2 का उल्लंघन कर रही है जिसमें सरकार की 2018 की एफडीआई नीति को अपग्रेड किया गया है।

कारोबार के क्षेत्र में असमानता
कैट ने कहा कि इससे कारोबार के क्षेत्र में असमानता पैदा हो गई है और अनुचित एवं अनैतिक प्रतिस्पर्धा बढ़ने से भारत का रिटेल कारोबार अव्यवस्थित हो गया है। व्यापारी संगठन ने कहा, सवाल यह है कि क्या Amazon और Flipkart जैसी कंपनियों को सरकार की नीतियों का उल्लंघन करने की इजाजत दी जाएगी और ब्रांड वाली कंपनियों और बैंकों को इन ई-कॉमर्स कंपनियों के साथ कॉर्टेल बनाने की इजाजत दी जाएगी।

बिजनेस मॉडल पर आपत्ति
सरकार द्वारा उनके बिजनेस मॉडल की कोई जांच की जाएगी। अथवा उनके लिए भारत के ई-कॉमर्स बाजार को खुला छोड़ दिया जाएगा कि वे जहां भी चाहें वहां कारोबार करें। कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी. सी. भरतिया और महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने दोनों कंपनियों के बिजनेस मॉडल पर आपत्ति जाहिर की है।

- आईएएनएस 
 

कमेंट करें
BadyP