comScore

कैसे खरीदें मार्केट रेट से 30% तक की छूट पर प्रॉपर्टी? जानिए यहां

कैसे खरीदें मार्केट रेट से 30% तक की छूट पर प्रॉपर्टी? जानिए यहां

हाईलाइट

  • प्रॉपर्टी मार्केट में लंबे समय से खामोशी छाई हुई है
  • ये खामोशी रियल एस्टेट डेवलपर्स को 5% से 10% तक की छूट के साथ खरीदारों को लुभाने के लिए मजबूर कर रही है
  • अगर आप रिसर्च और लेगवर्क करने के लिए तैयार हैं, तो आप संभवतः एक बड़ी छूट प्राप्त कर सकते हैं

डिजिटल डेस्क, मुंबई। प्रॉपर्टी मार्केट में लंबे समय से खामोशी रियल एस्टेट डेवलपर्स को 5% से 10% तक की छूट के साथ खरीदारों को लुभाने के लिए मजबूर कर रही है। लेकिन अगर आप थोड़ी सी रिसर्च और लेगवर्क करने के लिए तैयार हैं, तो आप संभवतः एक बड़ी छूट प्राप्त कर सकते हैं। दरअसल, बैंक नियमित रूप से प्रॉपर्टी की नीलामी करते है जिसे बाजार मूल्य से 20-30% कम दामों पर बेचा जाता है।

बैंक नीलामी को एक ऑफबीट और पॉपर्टी खरीदने का कुछ हद तक थकाऊ तरीका माना जाता है। SARFAESI (सिक्योरिटाइजेशन एंड रिकंस्ट्रक्शन ऑफ फाइनेंशियल एसेट्स एंड एनफोर्समेंट ऑफ सिक्योरिटीज इंटरेस्ट) अधिनियम, 2002 के तहत, बैंकों को प्रॉपर्टी की नीलामी करने की अनुमति दी जाती है ताकि वे अपने नुकसान की भरपाई कर सकें। ये वो संपत्ति होती है जिसे बैंक उधारकर्ताओं के भुगतान न करने के बाद जब्त कर लेता है। जैसा कि बैंक मुख्य रूप से बकाया मूलधन और ब्याज राशि की वसूली के लिए संपत्तियों की नीलामी करते हैं, ये अक्सर आकर्षक छूट पर उपलब्ध होती हैं।

हालांकि यह इतना आसान नहीं है जितना की लगता है। एक बैंक नीलामी में संपत्ति खरीदना पहली बार घर खरीद रहे किसी भी व्यक्ति के लिए काफी थकाऊ हो सकता है क्योंकि हर किसी को नियमों और प्रक्रियाओं की पूरी जानकारी नहीं होती। इसके अलावा, ऐसी सार्वजनिक नीलामियों की बहुत बड़ी संख्या में निवेशकों और खरीदारों की भीड़ प्रतीक्षा करती है, जो कम कीमत पर संपत्ति को प्राप्त करने की उम्मीद से आते हैं।

खरीदारों के लिए चेकलिस्ट

  • सबसे पहले ये पता करें की क्या ये प्रॉपर्टी आपके समय और धन के निवेश करने लायक है।
  • प्रॉपर्टी खरीदने से पहले CERSAI के तहत ओरिजनल सेल डीड और नॉन-काम्ब्रेंस सर्टिफिकेट जैसे महत्वपूर्ण दस्तावेजों की जांच करें। दस्तावेजों के बिना अनरजिस्टर्ड प्रॉपर्टी विवादों को जन्म दे सकती है।
  • प्रॉपर्टी की खरीदारी करने के बाद की सभी देनदारियों को स्पष्ट रूप से समझ लें। यदि आवश्यक हो तो कानूनी मार्गदर्शन लें।
  • बैंक को भले ही संपत्ति की नीलामी का अधिकार है, लेकिन वह संपत्ति का मालिक नहीं है। इसीलिए प्रॉपर्टी के स्वामी की जानकारी हासिल कर लें।
  • ओनर के पास आपकी बोली जमा करने से पहले DRT (डेब्ट रिकवरी ट्रिब्यूनल) से रिकवरी सर्टिफिकेट होना चाहिए।
  • हाउसिंग सोसाइटी (यदि लागू हो) से प्रॉपर्टी की नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट प्राप्त करें।

सभी लागतों पर विचार करें
अधिकांश नीलाम की जा रही प्रॉपर्टी के साथ कानूनी विवाद जुड़े होते हैं। इस पर अनपेड प्रॉपर्टी टैक्स, यूटिलिटी बिल या अन्य बकाया हो सकते हैं। नीलामी के बाद, ये बकाया और खर्च खरीदार को वहन करना होता है। इसीलिए जब आप बोली लगाते हैं तो ऐसी सभी लागतों को जोड़ लें। ऐसी प्रॉपर्टी की कीमत आपकी अपेक्षा से अधिक हो सकती है।

संपत्ति का मूल्यांकन करवाएं
हालांकि पहले से अंतिम नीलामी मूल्य जानना संभव नहीं है, आपको सार्वजनिक बिक्री से पहले संपत्ति के बाजार मूल्य का पता लगाना चाहिए। नीलामी बैंक आम तौर पर मार्गदर्शन मूल्य (सरकारी नियमों द्वारा प्रदान की गई), संपत्ति के मूल्य के बाजार मूल्य और संपत्ति की मौजूदा देनदारियों जैसे कारकों पर विचार करते हुए नीलामी का आधार मूल्य निर्धारित करता है। प्रॉपर्टी की खरीदी से पहले आप पेशेवर संपत्ति मूल्यांकनकर्ता से प्रॉपर्टी का रेट मालूम कर लें। इस रेट से 10% ज्यादा नीलामी की संपत्ति खरीदी के लिए उपयुक्त रेट हो सकता है।

पहले से धन की व्यवस्था करें
नीलामी शुरू होने से पहले आपको नीलामी करने वाले बैंक को बयाना देना होता है। यह नीलाम की जा रही संपत्ति के आरक्षित मूल्य का 10% है। यदि आपको नीलामी में संपत्ति नहीं मिलती है तो यह रकम आपको वापस कर दी जाती है। हालांकि, जब आप बोली जीतते हैं, तो आपको नीलामी के दिन बोली राशि का 25% भुगतान करना होता है।

इसके बाद, बची हुी राशि का भुगतान अपेक्षाकृत कम समय (लगभग 15 दिनों) के भीतर करना होता है। इसलिए आपको ऋण के माध्यम से या अपनी बचत से समय से पहले धन की व्यवस्था करने की आवश्यकता होती है। यह भी याद रखें कि यदि आप समय सीमा के भीतर भुगतान पूरा करने में विफल रहते हैं, तो जमा राशि वापस नहीं की जाती है।

यदि आप खरीदी जा रही प्रॉपर्टी की राशि चुकाने के लिए लोन लेने की योजना बना रहे हैं, तो बैंक से इन-प्रिंसिपल लोन की स्वीकृति प्राप्त करें। इस तरह की संपत्ति की खरीद को कभी भी हल्के में नहीं लेना चाहिए। बोली के लिए जाने से पहले, रिसर्च और नीलामी नियमों की समीक्षा और समीक्षा करने के लिए पर्याप्त समय निकालें। यदि आप इस कठिनाई भरे रास्ते को पार करने के लिए तैयार हैं, तो आपको ऐसी प्रॉपर्टी में जरूर लाभ होगा। आप 1 करोड़ रुपये की संपत्ति पर 20-30 लाख रुपये तक बचा सकते हैं।

कमेंट करें
3T8UX