comScore

बुधवार के दिन ना करें ये काम, वरना हो सकती है अनहोनी


डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। सप्ताह में सात दिन होते है, ये सातों दिन अपने आप मे एक विशेष महत्व रखते हैं। जिसका असर हमारे जन्मकुडली में पाए जाने वाले ग्रह नक्षत्रों पर भी होता है। बुधवार के दिन बुध देव का दिन होता है। जिन्हें प्रसन्न कर बुद्धि, बल और वेतन में वृद्धि का वरदान पा सकते हैं। बुद्ध को हरा रंग बहुत प्रिय है। हरा रंग शुभता और हरियाली का प्रतिक है। शास्त्रों में बुधवार के दिन को लेकर एक यह भी बात प्रचलित है की इस दिन की गई किसी भी तरह की शुभकारी यात्रा लाभकारी नही होती है। वही बेटियों को उसके पिहर से बुधवार के दिन ससुराल नही लाया जाता है। बुधवार का दिन भगवान गणेश को समर्पित होता है, जो संकटमोचन होते है और दुखहर्ता और सुखदाता के धनी है। अगर आप सच्चे मन और लग्न से गणेशजी की पूजा करते है तो आपको ढेर सारे लाभ भी मिलते है।कर्म तो हर व्यक्ति करता है परंतु कर्मों का फल हर किसी को हासिल नहीं होता। जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए बुद्धि की जरूरत होती है। बुद्धदेव बुद्धि के प्रदायक हैं। 

बुधवार के दिन से ये जुड़ी ये दिलचस्प बात यह भी है कि-

- बुधवार के दिन बेटी को विदा करना आपके लिए और आपकी बेटी के लिए अत्यंत दुखदायी हो सकता है। अगर आपकी बेटी की बुध ग्रह की दशा खराब हो तो आपको ऐसी भूल बिल्कुल भी नहीं करनी चाहिए।

- ऐसी मान्यता है कि बुधवार के दिन अपनी बेटियों को ससुराल के लिए विदा नहीं करना चाहिए।

- इस दिन बेटी को विदा करने से रास्ते में किसी प्रकार की दुर्घटना होने की संभावना अधिक रहती है। इतना ही नहीं, आपकी बेटी का अपने ससुराल से संबंध भी बिगड़ सकता है।

बुधवार के दिन घर लाएं ये चीजें

- साबुत मूंग दाल

- हरा धनिया

- पालक अथवा सरसों का साग

- नमक पारे

- हरी मिर्च

- पपीता

- अमरूद

बुधवार को न करें यह काम

- इस दिन पान नहीं खाना चाहिए।

- दूध को जलाने का काम नहीं करना चाहिए जैसे गजरेला, खीर, रबड़ी आदि बनाने का काम नहीं करना चाहिए।

- नए जूते और कपड़े न तो खरीदने चाहिए और न ही पहनने चाहिए।

- कन्या का अपमान नहीं करना चाहिए। छोटी कन्या मिल जाए तो उसे उपहार स्वरूप कुछ भेंट करें या कुछ पैसे भी दे सकते हैं।

- इस दिन किन्नर का मजाक न करें। उन्हें भी भेंट स्वरूप कुछ पैसे अथवा उपहार दें।

- टूथ पेस्ट, टूथ ब्रश और कोई भी बालों से संबंधित चीजों का क्रय-विक्रय न करें।

- स्त्रिओं और पुरूषों को ससुराल नहीं जाना चाहिए।

- साली, बुआ, विवाहित बहन और बेटी को घर पर निमंत्रण न दें।

कमेंट करें
qeDPT