comScore

एमपी से अकोला आ रहा 25 लाख का गुटखा जब्त ,सेनेटरी नैपकीन के नीचे छिपा था गुटखा

एमपी से अकोला आ रहा 25 लाख का गुटखा जब्त ,सेनेटरी नैपकीन के नीचे छिपा था गुटखा

डिजिटल डेस्क, अकोला। मध्यप्रदेश से एक वाहन में प्रतिबंधित विमल गुटखा अकोला आ रहा है। ऐसी जानकारी जिला पुलिस अधीक्षक एम राकेश कलासागर द्वारा गठित विशेष दल को मिली। इस जानकारी के आधार पर दल प्रमुख मिलिंद बाहकर ने वाहन को पकड़ने के लिए बालापुर के पास राजमार्ग यातायात पुलिस केंद्र के पास जाल बिछाया। पुलिस को मिली जानकारी के आधार पर वाहन क्रमांक एम एच 14 डी एम 4133 को रोक कर वाहन चालक एमपी के जिला राजापुर बडीकोलाई हिम्मतपुर निवासी विष्णुप्रसाद केशरसिंग मालवीय से वाहन में क्या रखा है इस बारे में पूछताछ की। चालक ने बताया कि ट्रक में सेनेटरी नैपकीन के बक्से हैं, किंतु पुलिस को मिली जानकारी पुख्ता होने के कारण दल ने वाहन की तलाशी ली। जांच के दौरान पुलिस को बक्से के नीचे प्रतिबंधित सुंगधित पान मसाला तथा सुगंधित तम्बाकू दिखाई दिया। पुलिस ने 25 लाख 94 हजार 500  रुपए का माल जब्त कर दस्तावेजों की जांच की। जांच में चालक के पास फर्जी बिल पाए गए। पुलिस जांच में चालक ने बताया कि यह माल एमपी से वह अकोला में दिलीप जेठानी के पास लेकर जा रहा था। जानकारी के पश्चात पुलिस ने ट्रक चालक तथा माल जब्त कर लिया। आगे की कार्रवाई के लिए दल ने अन्न व औषधि विभाग के सुपुर्द कर दिया।

अकोला से इशारा मिलने के बाद होती थी आपूर्ति 

पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अकोला जिला महाराष्ट्र में प्रतिबंधित गुटखा बिक्री का प्रमुख केंद्र बन गया है। अकोला पुलिस की दस्तावेजों पर पहली बार आरोपी बने दिलीप जेठानी के माध्यम से अकोला, अमरावती नागपुर, जलगांव, मलकापुर, वाशिम, बुलढाणा, जलगांव समेत अन्य जिलों में विमल गुटखा की आपूर्ति की जाती है। पुलिस का यह भी कहना है कि आरोपी जेठानी के ही इशारे पर कंपनी के अधिकारी इन स्थानों पर माल भेजा करते हैं।

पुलिस को गुमराह करने का प्रयास 

प्रतिबंधित गुटखा लाते समय पुलिस तथा सम्बन्धित विभाग के अधिकारियों की आंखों में धूल झोंकने के लिए गुटखे के ऊपर सेनेटरी नैपकिन के बक्से रखे गए थे तथा चालक के पास सेनेटरी वेअर की बिल्टी क्रमांक 377 पर 12 जून 2019 डाला गया था। वहीं बिल्टी पर ट्रक क्रमांक एम पी 09 जीई 4377 लिखा गया था। यह माल एमपी से पेकानंदराई भेजा जा रहा था इसका उल्लेख था। बिल्टी पर लिखे गए ट्रक क्रमांक तथा पकड़ा गया ट्रक नंबर अलग होने के कारण पुलिस ने ट्रक की तलाशी लेने पर यह धांधली सामने आई।

जानकारी मिलते ही मुख्य आरोपी फरार 

एमपी से आ रहा गुटखा विशेष दल द्वारा पकड़े जाने की जानकारी मिलते ही मुख्य खरीददार दिलीप जेठानी फरार हो गया। पुलिस ने आरोपी को तलाशने का भरसक प्रसास किया किंतु वह नहीं मिल पाया। पुलिस को कार्रवाई करने का अधिकार न होने के कारण उन्होंने य मामला अन्न व औषधि विभाग को सुपुर्द कर दिया। अब यह विभाग सम्बन्धित पर क्या कार्रवाई करता है इस बात को लेकर बाजार में चर्चा चल रही है। जबकि मुख्य आरोपी जमानत मिलने के लिए प्रयास करने में जुट जाने की जानकारी है। 

कमेंट करें
QOjBu