comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

App: Google Play Store पर वापस आया Patytm, सट्टेबाजी संबंधी गतिविधियों के चलते हटाया गया था प्ले स्टोर से


डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। Google Play Store पर अब एक बार फिर से Paytm दिखने लगा है। अब एंड्रॉयड यूजर्स Paytm को प्ले-स्टोर पर जाकर डाउनलोड कर सकते हैं और इसकी सर्विस का इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे पहले शुक्रवार (18 सितंबर) सुबह Google ने Paytm App को खेलों में सट्टेबाजी संबंधी गतिविधियों पर अपनी नीति के उल्लंघन के चलते प्ले स्टोर से हटा दिया था। इस कारण Paytm App को एंड्रॉयड यूजर्स कुछ समय तक डाउनलोड नहीं कर पा रहे थे। हालांकि, इस दौरान Paytm मॉल, Paytm फॉर बिजनेस, Paytm मनी App प्ले-स्टोर पर मौजूद थे। वहीं, Appल के App स्टोर पर यूजर्स को किसी भी तरह की परेशानी का सामना नहीं करना पड़ा, क्योंकि यहां Paytm App लगातार विजिबल रहा।

इससे पहले दोपहर में गूगल ने प्ले स्टोर से इस App को हटाने की जानकारी दी थी। गूगल ने एक ई-मेल के जवाब में कहा था कि App को ‘प्ले’ नीतियों के उल्लंघन के चलते ब्लॉक किया गया है। हमारी नीति के संबंध में इंडियन प्रीमियर लीग 2020 (IPL) टूर्नामेंट से पहले आज एक स्पष्टीकरण जारी किया गया है। इसके बाद Paytm ने ट्वीट किया था कि उसका एंड्रॉयड App नए डाउनलोड या अपडेट के लिए गूगल प्ले स्टोर पर अस्थाई तौर पर उपलब्ध नहीं है, लेकिन हम जल्द ही वापसी करेंगे। कंपनी ने कहा था कि आपकी राशि पूरी तरह से सुरक्षित है और आप जल्द ही पहले की तरह Paytm App को इस्तेमाल कर पाएंगे। हालांकि, गूगल प्ले स्टोर से बैन होने के महज चार घंटे बाद ही Paytm की प्ले स्टोर पर दोबारा वापसी हो गई है।

सट्टेबाजी पर गूगल की सख्ती
इससे पहले गूगल ने शुक्रवार को कहा था कि वह खेलों में सट्टेबाजी को बढ़ावा देने वाले App को इजाजत नहीं देता है और ऐसे App को गूगल प्ले स्टोर से हटा दिया जाएगा। दरअसल भारत में IPL जैसे प्रमुख खेल आयोजनों से पहले इस तरह के App बड़ी संख्या में लॉन्च किए जाते हैं। मालूम हो कि IPL 19 सितंबर से संयुक्त अरब अमीरात में शुरू होने वाला है। ऐसे में क्रिकेट से जुड़ें फैंटेसी लीग बेस्ड ऐप की रेस तेज हो चुकी है। चूंकि Dream11 प्ले स्टोर पर नहीं है और इसकी वजह भी गूगल की पॉलिसी है। ऐसी स्थिति में फैंटेसी लीग बेस्ड स्पोर्ट्स गेमिंग के लिए बनाई गई सेल्फ रेग्यूलेटरी बॉडी ने गूगल से Paytm ऐप को हटाने को कहा था।

गूगल ने एक ब्लॉग पोस्ट में कहा था कि हम ऑनलाइन कैसिनो की अनुमति नहीं देते हैं या खेलों में सट्टेबाजी की सुविधा देने वाले किसी भी अनियमित जुआ App का समर्थन नहीं करते हैं। इसमें वे App शामिल हैं जो ग्राहकों को किसी ऐसी बाहरी वेबसाइट पर जाने के लिए प्रेरित करते हैं, जो धनराशि लेकर खेलों में पैसा या नकद पुरस्कार जीतने का मौका देती है। यह हमारी नीतियों का उल्लंघन है।

FIFS ने अदा किया था गूगल का शुक्रिया 
गूगल से इस तरह के ऐप्स को हटाने के लिए FIFS ने कहा था। Paytm को प्ले स्टोर से हटाए जाने के बाद FIFS ने गूगल का शुक्रिया अदा किया था। इस रेग्यूलेटरी बॉडी का मानना है कि जब भारत में इस तरह के ऐप्स कानूनी हैं तो गूगल प्ले स्टोर क्यों किसी चुनिंदा ऐप को अपने प्लैटफॉर्म से बैन करता, जबकि कुछ ऐप्स को रखता है।

गूगल-पे से भी है Paytm का मुकाबला
बता दें कि Paytm देश के बड़े स्टार्टअप्स में से एक है। गूगल के पेमेंट प्लेटफॉर्म गूगल-पे से भी Paytm का सीधा मुकाबला है। 31 मार्च को खत्म हुए वित्त वर्ष 2019-20 में Paytm का रेवेन्यू बढ़कर 3 हजार 629 करोड़ रुपए पर पहुंच गया है।

5 करोड़ तक का Paytm कैश जीतने का ऑफर
Paytm फर्स्ट गेम्स की वेबसाइट पर मौजूद एफएक्यू (frequently asked questions) पर मौजूद जानकारी के मुताबिक, Paytm फर्स्ट गेम्स पर प्लेयर्स स्पेशल टूर्नामेंट में 5 करोड़ रुपए तक का Paytm कैश जीत सकते हैं। इसके अलावा प्लेयर्स के लिए अन्य कैश प्राइज भी हैं। इस प्लेटफॉर्म पर रमी, फैंटेसी, लूडो और अन्य प्रकार के मल्टी प्लेयर गेम खेले जा सकते हैं। वेबसाइट के मुताबिक, प्लेयर एक्सक्लूसिव टूर्नामेंट में रोजाना एक लाख रुपए तक की राशि जीत सकते हैं।

कमेंट करें
o5eCL
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।