दैनिक भास्कर हिंदी: मोबाइल में गेम खेलने से मना किया तो बालिका ने लगा ली फांसी-अन्य 3 लोगों ने की आत्महत्या 

May 3rd, 2021

डिजिटल डेस्क, नागपुर। अलग-अलग घटनाओं में दो छात्राओं सहित चार लोगों ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।  मानकापुर थानांतर्गत मोबाइल पर गेम खेलने से मना करने पर और अजनी में पढ़ाई के तनाव से छात्राओं ने खुदकुशी की। वहीं शुक्रवारी तालाब में एक व्यक्ति का शव पाया गया और एक अन्य युवक ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। प्रकरणों को शनिवार और रविवार को आकस्मिक मृत्यु के तौर पर दर्ज किया गया। 

गेम खेलने में खाना-पीना भी भूल जाती थी
पुलिस के अनुसार  वाघोबा नगर, गोधनी रोड निवासी संस्कृता चंद्रशेखर सिंह (15) 9वीं में अध्ययनरत थी। उसके पिता रेलवे में है। मां गृहिणी है। 24 अप्रैल को संस्कृता मोबाइल पर गेम खेल रही थी। वह गेम खेलने में हमेशा इतनी व्यस्त रहती थी कि, उसे खाने-पीने का भी उसका ध्यान नहीं रहता था। घटना के दिन संस्कृता की मां ने उसे कहकर फटकार लगाई कि, मोबाइल पर गेम खेलना बंद करो और भोजन करो, बस इतनी सी बात से आहत होकर संस्कृता ने सीलिंग फैन को दुपट्टा बांधकर फांसी लगा ली। माता-पिता ने उसे गंभीर हालत में नीचे उतारा और निजी अस्पताल में भर्ती कराया, जहां 29 अप्रैल को उपचार के दौरान संस्कृता की मौत हो गई। धंतोली थाने से प्राप्त जीरो की कायमी के तहत मानकापुर थाने में प्रकरण दर्ज किया गया।

11वीं की छात्रा ने पढ़ाई के तनाव में जान दी
अजनी थानांतर्गत चंद्र नगर निवासी निधि राजेंद्र प्रसाद (17) 11वीं में थी। वह नीट की पढ़ाई भी कर रही थी। निधि ने भी पढ़ाई से तनाव में आकर शनिवार-रविवार की दरमियानी रात सीलिंग फैन को चुन्नी बांधकर फांसी लगा ली। उसकी भी मौत हो गई। निधि के पिता भी रेलवे में ही हैं।

लॉकडाउन में बेरोजगार हो गया था 
नंदनवन स्थित दर्शन कालोनी निवासी प्रकाश दिलीपराव पाटणे (28) का शव शनिवार को शुक्रवारी तालाब में पाया गया। वह पहले इतवारी में किसी प्रतिष्ठान में कार्यरत था। लॉकडाउन में वह बेरोजगार था। प्रकाश को मोबाइल में रमी खेलने का शौक था। गत कुछ दिनों से वह गुमसुम था। घर में भी किसी से बात नहीं करता था, हालांकि बड़े भाई सूरज ने उसे कई बार समझाया, जानने का प्रयास किया कि, उसे क्या परेशानी है, लेकिन प्रकाश ने कभी किसी को कुछ नहीं बताया। घटना दिन सुबह नास्ता करने के लिए उसे आवाज देने पर भी उसका व्यवहार रुखा ही था। तैश में आकर उसने अपना मोबाइल तोड़ दिया था। पश्चात घर से बगैर किसी को कुछ बताए चला गया। शुक्रवारी तालाब में उसका शव पाया गया। गणेशपेठ थाने में आकस्मिक मृत्यु का प्रकरण दर्ज किया गया है। 

सैनिटाइजर बनाने वाली कंपनी में था युवक,कर ली आत्महत्या
एक युवक ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। मृतक का नाम मयूर मनोहर लोहकरे है। आत्महत्या कारण अज्ञात है। मयूर दो दिन पहले ही सैनिटाइजर बनाने वाली कंपनी में काम पर लगा था।  घटना नंदनवन के एलआईजी कॉलोनी में 30 अप्रैल को हुई। मयूर ने घर के पंखे में साड़ी बांधकर फांसी लगाकर आत्महत्या की। सूचना मिलने पर नंदनवन पुलिस मौके पर पहुंची। पंचनामा कर शव पोस्टमार्टम के लिए शासकीय अस्पताल भेजा। आकस्मिक मृत्यु का मामला दर्ज किया।